नई दिल्ली, एएनआइ। अनलॉक-4 के तहत देश में ज्यादातर पब्लिक ट्रांसपोर्ट में ढील दे दी गई है। वहीं, अब भारतीय रेलवे भी धीरे-धीरे ट्रेनों को चलाने की घोषणा कर रहा है। रविवार को पश्चिमी रेलवे (Western Railways) ने 12 सितंबर से अतिरिक्त छह जोड़ी स्पेशल ट्रेनों को चलाए जाने का एलान किया है।

रेलवे ने 80 ट्रेनों के संचालन को दी हरी झंडी

वहीं, दूसरी ओर रेल यात्रा की बढ़ती मांग के चलते भारतीय रेलवे ने 12 सितंबर से 80 और ट्रेनों के संचालन को हरी झंडी पहले ही दे दी है। इन ट्रेनों के लिए रिजर्वेशन की प्रक्रिया 10 सितंबर से चालू हो जाएगी। यात्रा के लिए रिजर्वेशन जरूरी होगा। ये ट्रेनें पहले से चलाई जा रही 230 स्पेशल ट्रेनों के अलावा होंगी। इसके साथ रेल पटरियों पर दौड़ने वाली स्पेशल ट्रेनों की कुल संख्या 310 हो जाएगी। 

राज्यों की मांग पर भी चलाई जा सकती हैं ट्रेनें

इसके पहले भारतीय रेलवे की तरफ से कहा गया कि राज्यों की मांग पर और भी ट्रेनें चलाई जा सकती हैं। राज्य अथवा केंद्रीय सेवा की परीक्षाओं के लिए या ऐसे ही किसी और उद्देश्य के लिए राज्य सरकारों के अनुरोध पर अतिरिक्त ट्रेनों का संचालन किया जा सकता है। रेलवे ने यह भी स्पष्ट किया कि अभी किसी भी श्रेणी में यात्रियों को चादर और कंबल नहीं उपलब्ध कराया जाएगा। 

रेलवे ने कोरोना संकट को अवसर में बदला, छोटे से बदलाव से दनादन बरस रहे पैसे

गौरतलब है कि भारतीय रेलवे इस दौरान 230 स्पेशल ट्रेनें चला रहा है। देश में कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए रेलवे ने 22 मार्च से पैसेंजर ट्रेन, मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन बंद कर दिया था। प्रवासी मजदूरों को उनकी मंजिल तक पहुंचाने के लिए रेलवे ने 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को शुरू किया था। इसके बाद 12 मई से राजधानी स्पेशल ट्रेनें शुरू की गईं। वहीं, 1 जून से 100 जोड़ी और ट्रेनों को चलाया गया। इस तरह अभी 230 ट्रेनों का परिचालन किया जा रहा है।

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस