नई दिल्ली,पीटीआइ। भारतीय रेलवे जल्द ही अपने बार्ड ऑफ मेंमबर्स की संख्या कम करना जा रहा है। रविवार को इसकी जानकारी देते हुए सूत्रों के ने कहा कि रेलवे ने फैसला किया है कि वह  25 फीसदी अधिकारियों की छंटनी करेगा। न्यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार रेलवे की इस छटनी के बाद बोर्ड में मौजूदा अधिकारियों की संख्या 200 से घटकर 150 रह जाएगी। इसके बाद डायरेक्टर या जो भी अधिकारी इससे उच्च पद पर होंगे उनका ट्रांसफर जोन में कर दिया जाएगा। इससे जोन की कार्यक्षमता में भी बढ़ोतरी होगी।

 छटनी की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू

पीटीआइ के अनुसार जल्द ही अधिकारियों की छटनी की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।  यह कदम रेल मंत्री पीयूष गोयल के 100 दिन के एजेंडे का हिस्सा है और वर्तमान रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वी के यादव के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता  भी है। 2015 में भारतीय रेलवे पर बिबेक देबरॉय समिति द्वारा रेलवे बोर्ड के पुनर्गठन की भी सिफारिश की गई थी। सूत्रों के मुताबिक, काफी समय से रेलवे में माना जा रहा है कि बार्ड में एक काम करने के लिए ज्यादा अधिकारी हैं। वहीं जोन्स में इनकी संख्या कम। कार्यक्षमता को बढ़ाने के लिए जोन्स में अधिकारियों की जरुरत है।

पैनल ने सौंपी रिपोर्ट

पैनल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि भारतीय रेलवे की केंद्रीकृत संरचना और विभागीयकरण रेलवे की कार्य संस्कृति पर  प्रभाव डाल रहा है और विभाग के लक्ष्यों के लिए इसके दृष्टिकोण को कम कर रहा है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि यह हमेशा देखा गया है कि रेलवे बोर्ड सहित रेलवे ओवरस्टाफ हो गया था। इससे संगठन की दक्षता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा था। इसलिए ये फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा कि रेलवे द्वारा कुशल कार्यप्रणाली के साथ-साथ वित्तीय व्यवहार्यता के लिए आवश्यक कर्मचारियों की सही संख्या की समीक्षा करने के लिए कोई गंभीर प्रयास नहीं किए गए।    

Posted By: Ayushi Tyagi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप