नई दिल्ली, एजेंसी। TROPEX Exercise: भारतीय नौसेना हिंद महासागर क्षेत्र में ट्रोपेक्स अभ्यास (TROPEX exercise) कर रही है। भारतीय नौसेना ने बताया कि थिएटर लेवल ऑपरेशनल रेडीनेस एक्सरसाइज में भारतीय सेना, वायु सेना और तटरक्षक बल की संपत्ति के साथ उनकी भागीदारी शामिल होगी। बता दें कि ट्रोपेक्स अभ्यास दो साल में एक बार आयोजित किया जाता है।

पहला अभ्यास जनवरी 2019 में किया गया

26 सितंबर 2008 को हुए मुंबई आतंकी हमलों के बाद देश में समुद्री सुरक्षा को बढ़ाने के लिए वर्ष 2018 में इस तरह के अभ्यास का विचार सामने लाया गया। बता दें कि समुद्री निगरानी का पहला अभ्यास जनवरी 2019 में हुआ था। इसे भारतीय नौसेना का सबसे बड़ा वॉर गेम भी कहा जाता है।

TamilNadu News: तमिलनाडु में मंत्री को कुर्सी मिलने में देरी होने पर हंगामा, कार्यकर्ताओं पर फेंका पत्थर

हिंद महासागर क्षेत्र में होता है अभ्यास

जानकारी के लिए बता दें कि यह अभ्यास हिंद महासागर क्षेत्र में आयोजित किया जा रहा है। इस अभ्यास का उद्देश्य नौसेना की युद्ध तत्परता का परीक्षण करना है। इसके अलावा समुद्री क्षेत्र में राष्ट्रीय हितों की रक्षा करना और हिंद महासागर क्षेत्र में स्थिरता और शांति को बढ़ावा देना भी इसका मुख्य उद्देश्य है।

पिछले साल भी हुआ था आयोजन

पिछले साल भी भारत ने अपनी 7516 किलोमीटर लंबी तटरेखा और विशेष आर्थिक क्षेत्र में दो दिवसीय सैन्य अभ्यास 'सी विजिल 2022' किया था। इस अभ्यास का भी मकसद किसी भी स्थिति से निपटने में विभिन्न एजेंसी की तैयारियों की जांच करना तथा समुद्री सुरक्षा को मजबूत करना था। भारतीय तटरक्षक बल और गुजरात, महाराष्ट्र, गोवा और कर्नाटक की पुलिस के अलावा, सीमा शुल्क विभाग, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, मत्स्य पालन विभाग, बंदरगाह प्राधिकरण, अन्य संबंधित राज्य और केंद्रीय एजेंसियां इस अभ्यास का हिस्सा थी।

मनसुख मांडविया ने भारत के अपने Disaster Response Model पर दिया जोर, कहा- SOP का पालन करना महत्वपूर्ण

Border Dispute: SC में केस लड़ने के लिए लीगल टीम को करीब 60 लाख रुपये प्रतिदिन देगी कर्नाटक सरकार

Edited By: Nidhi Avinash

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट