नई दिल्ली। लोगों को भारतीय जीवनशैली अपनाना चाहिए जिससे वह संक्रमण से बच सकें। आयुर्वेद में कोरोना वायरस के इलाज को लेकर भ्रांतियां फैलाई जा रही हैं लेकिन आधिकारिक तौर पर आयुर्वेद के द्वारा कोरोना संक्रमण का त्वरित इलाज संभव नहीं हैं। हालांकि आयुर्वेद की पद्धति अपनाकर हम अपने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं जिससे इस तरह के वायरल संक्रमण शरीर पर हमला नहीं कर पाते हैं। जानें क्‍या कहते है आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति के पद्मभूषण वैद्य देवेंद्र त्रिगुणा।

गर्म पानी पीएं : यदि किसी व्यक्ति को कोरोना वायरस का संक्रमण हो जाता है तो उसे दिन में बार-बार गर्म पानी पीते रहना चाहिए। इससे गले के संक्रमण और कफ की समस्या में आराम मिलता है। साथ ही लोग अपने किचन और गार्डन में उपलब्ध औषधियों का इस्तेमाल कर अपनी प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं।

प्रतिरोधक क्षमता ऐसे बढ़ाएं : तुलसी और काली मिर्च का इस्तेमाल कर सकते हैं जिससे कई तरह के संक्रमणों से निजात मिलती है। जिन लोगों की प्रतिरोधक क्षमता बेहद कम है वह दूध और हल्दी का इस्तेमाल प्रतिदिन करें जिससे उन्हे राहत मिलेगी। लोग हल्दी और शहद को मिलाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। ऋतुओं के संधिकाल में तरह-तरह के विषाणु पैदा होते हैं जिससे बीमारियां पनपती हैं। ऐसे समय लोगों को गिलोय के रस, आंवला , मुलेठी, सौंफ और च्यवनप्राश का इस्तेमाल करना चाहिए। यह सभी वस्तुएं घरों और बाजारों में आसानी से उपलब्ध हो जाती है।

बासी खाने से करें परहेज : लोग अधिक बने खाने को फ्रिज में रख देते हैं। अधिक समय तक रखे हुए भोजन में बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। ऐसे में फ्रिज में रखे हुए खाने से परहेज करें। सर्दी की समस्या यदि हो तो दही का इस्तेमाल न करें। दही से कफ और सर्दी की समस्या अधिक बढ़ जाती है। इसकी जगह पर लोग सूखे मेवों का इस्तेमाल कर खुद की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने का प्रयास कर सकते हैं।

तनाव न लें : प्रतिकूल हालात में भी लोगों को बिल्कुल नहीं घबराना चाहिए। घर और रोजमर्रा के जीवन में इस्तेमाल होने वाली चीजों के साथ निजी स्वच्छता का ध्यान रखें। सरकार द्वारा जारी एडवाइजरी की कठोरता से पालन करें। केंद्र सरकार ने तत्परता दिखाते हुए सही समय पर कठोर कदम उठाए हैं जिससे दुनिया भर में पैर फैला रहे कोरोना का संक्रमण भारत में अधिक प्रभावी नहीं है। ऐसे में सरकार के प्रयास बधाई के पात्र हैं।

चिकित्सक की सलाह पर लें औषधि : लोगों को इस समय खुद औषधि लेने से बचना चाहिए। अगर समस्या हो तो तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में चिकित्सक से सलाह लेकर औषधि लेनी चाहिए। मास्क का इस्तेमाल केवल तब करें जब किसी भीड़-भाड़ वाले इलाके में जा रहे हों अन्यथा मास्क की आवश्यकता नहीं है। जहां जरूरी ना हो भीड़ वाली जगहों पर ना जाएं घर पर रहें और सुरक्षित रहें।

Posted By: Sanjay Pokhriyal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस