नई दिल्ली, एजेंसी। भारतीय सेना ने 130 अत्याधुनिक ड्रोन खरीदने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। ये ड्रोन निगरानी के साथ ही लड़ाकू भूमिका में भी सक्षम होंगे। इनकी तैनाती से सीमाओं पर भारतीय सेना और बेहतर तरीके से दुश्मन की गतिविधियों की निगरानी कर सकेगी।

सेना को मिल सकेगी अतिरिक्त जानकारी

ये खास तरह के ड्रोन आपातकालीन क्रय प्रक्रिया के तहत खरीदे जा रहे हैं। इस त्वरित गति वाली प्रक्रिया से कुछ हफ्तों में ही ड्रोन सेना को मिल जाएंगे। इन ड्रोन से उन ठिकानों में हो रही गतिविधियों की जानकारी सेना को मिल सकेगी जो दृष्टि से दूर होते हैं अर्थात सीमा पार होते हैं। इनके जरिये सेना को अतिरिक्त जानकारी मिल सकेगी जो पुष्ट खुफिया सूचना होगी।

बंगाल में पूर्वी कमान पहुंचे सेना प्रमुख मनोज पांडे, LAC पर सुरक्षा हालात की ली जानकारी

प्रत्येक ड्रोन सिस्टम में होंगे दो एरियल वेहिकिल

बता दें कि प्रत्येक ड्रोन सिस्टम में दो एरियल वेहिकिल होंगे, उनमें विस्फोटक सामग्री भी होगी। इन ड्रोन से जो सूचनाएं भेजी जाएंगी, वे कंट्रोल रूम को मिलेंगी जहां पर उनका विश्लेषण करके आवश्यक निर्णय लिए जाएंगे।

चीनी सीमाओं पर स्थिति मजबूत कर रहा है भारत

उल्लेखनीय है कि भारतीय सेना चीन से लगने वाली 3,500 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर लगातार स्थिति मजबूत करती जा रही है। ऐसा मई 2020 में चीन की सेना द्वारा पूर्वी लद्दाख में एलएसी के अतिक्रमण के बाद हुआ है। शांति और युद्धकाल में ड्रोन की बढ़ती भूमिका के चलते भारतीय सेना भी इनका इस्तेमाल बढ़ाती जा रही है। पता चला है कि रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) कई तरह के ड्रोन के विकास पर कार्य कर रहा है।

Baramulla News: पाक के नापाक मंसूबे फिर नाकाम, 5 युवाओं को आतंकी संगठन में शामिल होने से सेना ने बचाया

Surgical Strike Row: सेना के शौर्य पर कोई सवाल नहीं किया जा सकता... दिग्विजय के बयान पर बोले राहुल गांधी

Edited By: Mohd Faisal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट