नई दिल्ली,एजेंसी।  भारत और ऑस्ट्रेलिया के रक्षा बल की वायु सेना ने चार दिवसीय संयुक्त अभ्यास का समापन किया है। यह अभ्यास मलेशिया में हुआ। यह सैन्य अभ्यास भारतीय वायु सेना (IAF) और रॉयल ऑस्ट्रेलियाई वायु सेना (RAAF) के बीच संयुक्त वायु अभ्यास का पहला संस्करण है।

IAF और RAAF  ने किया संयुक्त अभ्यास

भारतीय वायु सेना (IAF) ने कहा 'अभ्यास के पहले संस्करण की सफलता का सारा श्रेय दोनों वायु सेनाओं की साझा प्रतिबद्धता का प्रमाण है। भारतीय वायु सेना (IAF) का दस्ता अब रॉयल ऑस्ट्रेलियन एयर फ़ोर्स (RAAF) डार्विन, ऑस्ट्रेलिया में अभ्यास पिच ब्लैक 22 के लिए आगे बढ़ रहा है।'

उदारशक्ति

चार दिवसीय अभ्यास का नाम उदारशक्ति रखा गया। अभ्यास के दौरान विभिन्न सॉर्टियां और गठन निष्पादन देखा गया।

मलेशियाई वायु सेना ने की थी मेजबानी 

भारतीय वायु सेना (IAF) ने आगे कहा, 'चार दिवसीय पूर्व उदारशक्ति का समापन 16 अगस्त को रॉयल मलेशियाई वायु सेना द्वारा आयोजित एक पारंपरिक समापन समारोह के साथ हुआ। समारोह को दोनों वायु सेना द्वारा 7 एयरक्राफ्ट फॉर्मेशन फ्लाई पास्ट और कुछ नेताओं के  बीच स्मृति चिन्हों के आदान-प्रदान के साथ चिह्नित किया गया था।'

17 देशों के 100 विमान और 2500 सैन्यकर्मी होंगे शामिल

बता दें कि 'पिच ब्लैक' अभ्यास में आस्ट्रेलिया, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इंडोनेशिया, भारत, जापान, मलेशिया, नीदरलैंड, न्यूजीलैंड, फिलीपींस, दक्षिण कोरिया, सिंगापुर, थाईलैंड, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई), ब्रिटेन और अमेरिका के लगभग 100 विमान और 2500 सैन्यकर्मी शामिल होंगे। एक ऑस्ट्रेलियाई मीडिया ने कहा कि पिच ब्लैक 2022 (PBK22) शुरू करने के लिए 17 देशों के लगभग 100 विमान और 2,500 सैन्यकर्मी दो सप्ताह में देश के उत्तरी क्षेत्र में पहुंचेंगे।

यह अभ्यास 19 अगस्त से 6 सितंबर तक होगा

रायल आस्ट्रेलियाई वायु सेना (RAF) 'पिच ब्लैक' को रणनीतिक भागीदारों और सहयोगियों की वायुसेना के साथ अपनी "कैपस्टोन" को अंतरराष्ट्रीय कार्य गतिविधि के रूप में मानता है। अभ्यास 'पिच ब्लैक' हर दो साल में एक बार होता है और रायल ऑस्ट्रेलियाई वायुसेना द्वारा आयोजित किया जाता है। लेकिन कोविड-19 महामारी की वजह से यह युद्ध अभ्यास चार साल के बाद हो रहा है। युद्ध अभ्यास आम तौर पर उत्तरी ऑस्ट्रेलिया के आरएएएफ ठिकानों - डार्विन और टिंडल में होता है। इस बार यह अभ्यास 19 अगस्त से 6 सितंबर तक होगा।

Edited By: Babli Kumari