नई दिल्ली, प्रेट्र। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को श्रीलंका के वित्त मंत्री बासिल राजपक्षे के साथ द्वीपीय देश की आर्थिक स्थिति पर चर्चा की। इस दौरान भारत के सहयोग वाली परियोजनाओं पर भी बात हुई जिन्हें मजबूती देकर श्रीलंका की आर्थिक स्थिति को बेहतर किया जा सकता है। वार्ता में भारत ने श्रीलंका को दो महीने के भीतर करीब चार हजार करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता का आश्वासन दिया। इसके अतिरिक्त 11 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का जरूरी सामान कर्ज पर देगा। इस दौरान जयशंकर श्रीलंका की जेलों में बंद भारतीय मछुआरों का मुद्दा भी उठाया और राजपक्षे से उनकी रिहाई सुनिश्चित कराने के लिए कहा।

श्रीलंकाई मंत्री ने भारतीय मछुआरों की शीघ्र रिहाई कराने का आश्वासन दिया। चीन के कर्ज जाल में फंसकर श्रीलंका इन दिनों परेशान है। कोविड महामारी ने उसके आर्थिक हालात को और ज्यादा बिगाड़ दिया है। इन्हीं स्थितियों पर दोनों देशों के मंत्रियों के बीच चर्चा हुई। विदेश मंत्री जयशंकर ने राजपक्षे को आश्वस्त किया कि भारत हर स्थिति में श्रीलंका के साथ है। भारत हर संभव तरीके से मुश्किलों से उबरने में श्रीलंका की सहायता करेगा। वर्चुअल वार्ता में जयशंकर ने दोनों देशों के प्राचीन संबंधों का हवाला देते हुए कहा कि भारत उन्हें कायम रखेगा। विदित हो कि भारत के पड़ोसी श्रीलंका के साथ मजबूत आर्थिक संबंध भी हैं।

वार्ता में राजपक्षे ने भारत के हमेशा से रहे सहयोगी रुख की प्रशंसा की और उसके लिए आभार जताया। उन्होंने बंदरगाह, बुनियादी सुविधाओं, ऊर्जा, वैकल्पिक ऊर्जा और औद्योगिक क्षेत्र में श्रीलंका में भारत के निवेश की आवश्यकता जताई। वार्ता के दौरान बीते दिसंबर में श्रीलंका के समुद्र से वहां के सुरक्षा बलों द्वारा पकडे़ गए तमिलनाडु के 68 मछुआरों का मामला भी उठा। जयशंकर ने इन मछुआरों की शीघ्र रिहाई का अनुरोध राजपक्षे से किया। शनिवार को हुई वार्ता दिसंबर में राजपक्षे की भारत यात्रा के दौरान उनकी भारतीय नेताओं के साथ हुई बातचीत का विस्तार थी।

भारत की मदद से श्रीलंका को राहत की सांस

भारत की तात्कालिक आर्थिक मदद से श्रीलंका को राहत की सांस मिल गई है लेकिन अपने विदेशी मुद्रा कोष में आई कमी को पूरा करने के लिए देश को अंतत: अंतराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आइएमएफ) के पास जाना ही होगा। यह बात श्रीलंका के शीर्ष अर्थशास्त्री डब्ल्यू ए वीजेव‌र्द्धने ने कही है। इस बीच कोलंबो में भारतीय उच्चायुक्त गोपाल बागले ने श्रीलंका के सेंट्रल बैंक के गवर्नर अजित निवार्ड काबराल से मुलाकात कर हर संभव सहायता का आश्वासन दिया है। यह मुलाकात पिछले हफ्ते भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा सेंट्रल बैंक को दिए गए 90 करोड़ डालर की सहायता के सिलसिले में थी।

Edited By: Monika Minal