नई दिल्ली, एएनआइ। भारत ने 15 नवंबर को पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले गिलगिट-बाल्टिस्तान के चुनावों को पूरी तरह से खारिज कर दिया है। भारत ने कड़े शब्दों में कहा है कि गिलगिट-बाल्टिस्तान पर पाकिस्तान का कोई अधिकार नहीं है। यह पूरा क्षेत्र समेत केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का पूरा इलाका भारत का अभिन्न अंग है।

गृह मंत्रालय ने अपने बयान में कहा है कि हमें रिपोर्ट मिली है कि तथाकथित गिलगिट-बाल्टिस्तान विधानसभा का चुनाव 15 नवंबर को होना है। भारत सरकार ने पुरजोर विरोध किया है और पाकिस्तान को बता दिया है कि गिलगिट बाल्टिस्तान भारत का अभिन्न हिस्सा है। सेना के कब्जे वाले इस क्षेत्र की स्थिति बदलने के किसी भी कार्य का कोई कानूनी आधार नहीं है।

बता दें कि गिलगिट-बाल्टिस्तान में 18 अगस्त को चुनाव कराए जाने थे, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से पाकिस्तानी चुनाव आयोग ने 11 जुलाई को इन्हें स्थगित कर दिया था। वहां पिछली विधानसभा का पांच साल का कार्यकाल 24 जून को ही खत्म हो चुका है। ऐसी खबरें हैं पाकिस्तान गिलगिट-बाल्टिस्तान को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की फिराक में है।

पाकिस्तान के राष्ट्रपति डॉ. आरिफ अल्वी ने गिलगिट-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने के संबंध में अधिसूचना जारी कर चुके हैं। हाल में कश्मीर और गिलगिट-बाल्टिस्तान मामलों के मंत्री अली अमीन गंडापुर ने कहा था कि प्रधानमंत्री इमरान खान जल्द ही इस क्षेत्र को पूर्ण राज्य का दर्जा देने का एलान करेंगे। इसके बाद गिलगिट-बाल्टिस्तान को एक पूर्ण राज्य के तौर पर सभी संवैधानिक अधिकार मिल जाएंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस