नई दिल्ली, पीटीआइ। भारत व यूएई ने 12-26 जुलाई तक एयरलाइंस को चार्टर्ड फ्लाइट में दोनों तरफ से यात्रियों के परिवहन की इजाजत दी है। फिलहाल वंदे भारत मिशन के तहत यूएई में फंसे भारतीयों को वापस लाने वाली उड़ानों में यहां से यात्रियों को ले जाने की इजाजत नहीं है। इसी प्रकार यूएई की उड़ानें भारत से खाड़ी देशों के यात्रियों को तो ले जा सकती हैं, लेकिन वहां से यात्रियों को भारत नहीं ला सकतीं।

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) का आवासीय परमिट रखने वाले भारतीय नागरिक पिछले कुछ हफ्ते से सोशल मीडिया पर दोनों देशों के बीच उड़ानों की कमी की शिकायत कर रहे थे। कोरोना संक्रमण की महामारी फैलने के बाद भारत ने 23 मार्च से अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर रोक लगा रखी है।

नागर विमानन मंत्रालय ने गुरुवार को ट्वीट किया, 'भारत में फंसे यूएई नागरिकों की स्वदेश वापसी में मदद के लिए दोनों देशों के नागर विमानन ने 12 जुलाई 2020 से नई व्यवस्था शुरू करने पर सहमति जताई है। यूएई की चार्टर्ड फ्लाइटों को 12-26 जुलाई तक भारतीय नागरिकों को वहां से भारत लाने और आइसीए अनुमोदित यूएई निवासियों को ले जाने की अनुमति होगी।

इसी प्रकार यूएई में फंसे भारतीयों को वापस लाने वाली उड़ानों को भारत से आइसीए अनुमोदित यूएई नागरिकों को उनके देश ले जाने की इजाजत होगी।' आइसीए का आशय यूएई की फेडरल अथॉरिटी फॉर आइडेंटिटी एंड सिटिजनशिप से है। एयर इंडिया एक्सप्रेस के सीईओ के श्याम सुंदर ने भी यह सूचना ट्विटर पर साझा की।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस