नई दिल्ली, पीटीआई। मालदीव के साथ संबंधों को और मजबूत बनाने की नीयत से गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को वहां के अपने समकक्ष शेख इमरान अब्दुल्ला से बात की। वार्ता के बाद गृह मंत्री शाह ने ट्वीट कर बताया कि अब्दुल्ला के साथ उनकी लाभप्रद वार्ता से मालदीव के साथ भारत के संबंध और मजबूत होने की संभावना पैदा हुई है। गृह मंत्री अब्दुल्ला चार दिनों की भारत यात्रा पर गुरुवार को नई दिल्ली पहुंचे हैं। 

गृह मंत्रालय ने बयान जारी कर बताया कि दोनों देशों के बीच सुरक्षा और कानून व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए सहयोग बढ़ाने पर सहमति बनी है। इसमें दोनों देशों का फायदा निहित है। दोनों नेताओं ने भारत और मालदीव के संबंधों में विकास पर खुशी जताई। कहा, विभिन्न क्षेत्रों में दोनों देशों का बढ़ रहा सहयोग संबंधों की नई ऊंचाइयों को छुएगा। अब जिन नए क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाया जाएगा उनमें पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों के बीच समन्वय, आतंकवाद निरोधी उपाय, कट्टरता को रोकने वाले कार्य, संगठित अपराध, नशीले पदार्थो की तस्करी और सरकारी तंत्र की क्षमता में बढ़ोतरी शामिल हैं। 

बैठक में केंद्रीय सचिव अजय भल्ला समेत दोनों देशों के कई वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे। मालदीव की 1965 में आजादी के बाद भारत उसे मान्यता देने और कूटनीतिक संबंध स्थापित करने वाले शुरुआती देशों में था। फरवरी 2012 से नवंबर 2018 के मध्य के करीब छह साल की अवधि को छोड़कर बाकी पूरे समय मालदीव के साथ भारत के संबंध बहुत अच्छे रहे। वह भारत के प्रमुख पड़ोसी देशों में शुमार है।                   

बता दें कि भारत और मालदीव के रिश्तों में गर्मजोशी तब आई जब मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह 2018 में भारत दौरे पर आए थे। तभी दोनों ने हिंद महासागर में शांति व सुरक्षा को बनाए रखने के लिए सहयोग बढ़ाने के प्रति सहमति जताई थी। 

Posted By: Ayushi Tyagi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

जागरण अब टेलीग्राम पर उपलब्ध

Jagran.com को अब टेलीग्राम पर फॉलो करें और देश-दुनिया की घटनाएं real time में जानें।