जम्मू (राज्य ब्यूरो)। पूर्वी लद्दाख के चुशुल-मोल्डो में हुई बार्डर पर्सनल बैठक में भारतीय और चीन सेना ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एएलसी) पर शांति बरकरार रखने का विश्वास दिलाया। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के 91वें स्थापना दिवस पर हुई बैठक में फैसला हुआ कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच मसलों को सौहार्दपूर्ण तरीके से हल किया जाए।

इस दौरान दोनों सेनाओं के दलों ने कई आपसी मुद्दों पर चर्चा की। सेना के प्रवक्ता के अनुसार बार्डर पर्सनल बैठक के दौरान भारतीय, चीनी सेना के दलों ने रंगारंग कार्यक्रमों के माध्यम से अपनी समृद्ध संस्कृति को दर्शाया। कार्यक्रमों का सिलसिला गुरुवार दोपहर को शुरू होकर शाम तक जारी रहा।

गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच वास्तिवक नियंत्रण रेखा को चीन नहीं मानता है। कई बार चीन सेना के जवान जबरन भारतीय क्षेत्र में घुसने की कोशिश करते हैं, जिससे विवाद पैदा होते हैं। ऐसे में छोटे मुद्दे कोई बड़ा विवाद न बन जाएं, इसके लिए क्षेत्र में शांति को बनाए रखने के लिए साल में कई बार ऐसी बार्डर पर्सनल बैठकों का आयोजन किया जाता है।

Posted By: Nancy Bajpai