नई दिल्ली, एजेंसी। राजस्थान में जारी सियासी उठापटक के बीच आयकर विभाग की छापेमारी से माहौल और गर्म हो गया है। एक तरफ जहां सचिन पायलट की बगावत के बाद अशोक गहलोत अपनी सरकार बचाने की कोशिश कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ उनके तीन विश्वस्तों के यहां आयकर विभाग ने छापेमारी की गई है। गहलोत के पुराने मित्र और राज्य पर्यटन विकास निगम के पूर्व चेयरमैन राजीव अरोड़ा और उनके बेटे वैभव गहलोत के मित्र धमेंद्र राठौड़ के आवास पर छापेमारी की गई है।

राजीव अरोड़ा आम्रपाली ज्वलैर्स के मालिक भी हैं। उनके सी-स्कीम आवास, एमआई रोड़ स्थित शोरूम सहित पांच ठिकानों पर छापेमारी की गई है। धर्मेंद्र राठौड़ के सोमदत्त मार्ग स्थित फ्लैट पर छापेमारी अभी जारी है। वहीं आयकर विभाग की टीम ने वैभव गहलोत के पार्टनर रविकांत शर्मा के ठिकानों पर भी छापेमारी की। शर्मा की जयपुर स्थित फेयरमाउंट होटल पर छापा मारा गया है

बता दें कि रविकांत शर्मा को ईडी ने कुछ दिन पहले ही तलब किया था। अब उनसे पूछताछ की जा रही है। उनके यहां आयकर विभाग के साथ ही ईडी की टीम पहुंची है। ईडी को शक है कि बड़े पैमाने पर विदेशों से पैसे का लेन-देन हुआ है। बताया जा रहा है कि रविकांत शर्मा ने मॉरिशस से 96.7 करोड़ रुपये रिसीव किए।

उधर कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सोमवार को मीडिया से बात करते हुए कहा कि भाजपा के तीन अग्रिम विभाग है। इनमें एक आयकर विभाग, दूसरा सीबीआई और तीसरा ईडी है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में सोमवार को शुरू हुई आयकर विभाग और ईडी की कार्रवाई भी इसी का परिणाम है कि भाजपा विरोधियों को दबाने में जुटी है। जब भी प्रजातंत्र की हत्या होती है तो ये विभाग सक्रिय हो जाते हैं।

वहीं, राजस्थान सरकार के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने कांग्रेस के नेताओं से जुड़े परिसरों पर आयकर विभाग के छापे की निंदा की है। जोशी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के आवास के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि ऐसी ठापेमारी से हम डरने वाले नहीं हैं। सहकारिता मंत्री उदयलाल अंजना ने भी छापेमारी के समय पर सवाल उठाया है।                                                             

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस