बीजिंग, प्रेट्र। कैलास मानसरोवर यात्रा के मसले पर चीन सरकार भारत के साथ संपर्क में है। हाल ही में चीन ने नाथू-ला दर्रा होकर कैलास मानसरोवर जाने वाले भारतीय तीर्थयात्रियों को रोक दिया था। इसकी वजह उसने तिब्बत में हो रही बारिश और वहां की सड़कों की खराब स्थिति बताई है। वहां पर भूस्खलन भी हो रहा है।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जेंग शुआंग ने बताया कि इस मसले पर दोनों देशों की सरकार संपर्क में हैं। चीनी अधिकारियों ने 19 जून को नाथू-ला दर्रा होकर कैलास मानसरोवर जा रहे 50 भारतीयों के दल को चीनी सीमा चौकी पर रोक दिया था। मौसम की खराबी के कारण उन्हें बेस कैंप में रुकने के लिए कहा गया। यह बात जब मीडिया में आई तब उसको लेकर भारत सरकार सक्रिय हुई।

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल वागले ने बताया कि नाथू-ला दर्रा होकर कैलास मानसरोवर जाने वाले तीर्थयात्रियों को मुश्किल हुई है, इस पर चीन सरकार से बात की गई है। उनके चीनी समकक्ष ने इसी के बाद बयान दिया है। उल्लेखनीय है कि कैलास मानसरोवर का इलाका चीन में पड़ता है और वहां पर चीन सरकार की अनुमति से ही जाना संभव है।

यह भी पढ़ें: चीन ने रोकी नाथुला रास्‍ते से कैलाश मानसरोवर यात्रा, वापस आएंगे तीर्थ यात्री!

यह भी पढ़ें: PICS: कैलास मानसरोवर छुपाए हुए है कई रहस्यमयी बातें

Posted By: Abhishek Pratap Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस