नई दिल्ली, प्रेट्र। रामायण एक्सप्रेस के अगले संस्करण में ट्रेन के अंदर रामायण के विविध प्रसंग देख सकेंगे और भजन भी सुन सकेंगे। यह ट्रेन भगवान राम से जुड़े तीर्थस्थलों की यात्रा कराएगी। सजावट और भजनों के होने से यात्री टेंपल ऑन व्हील्स का अनुभव कर सकेंगे। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने कहा कि 10 मार्च के बाद इस ट्रेन के पटरी पर उतरने की संभावना है। आने वाले सप्ताह में इस ट्रेन की सालाना समय-सारिणी जारी की जाएगी।

देश के विभिन्‍न हिस्‍सों में चलेगी ट्रेन 

एक संवाददाता सम्मेलन में यादव ने कहा कि ट्रेन विभिन्न हिस्सों उत्तर, दक्षिण, पूर्व और पश्चिम से चलेगी ताकि देश भर के लोग इसकी सेवा का लाभ ले सकें। ट्रेन का बाहरी और आंतरिक हिस्सा रामायण के प्रसंगों पर आधारित होगा। हम ट्रेन में सफर करते हुए भजन सुन सकते हैं। आइआरसीटीसी कार्यक्रम और पैकेज तैयार करने में जुटी है। होली के बाद ट्रेन के संचालित होने की उम्मीद है।

पहले भी भगवान राम के नाम चल चुकी है ट्रेन

इससे पहले रेलवे ने भगवान राम के नाम पर एक विशेष ट्रेन चलाई है। यह ट्रेन रामायण सर्किट के महत्वपूर्ण स्थलों से होकर गुजरती है। इन स्थलों में नंदीग्राम, सीतामढ़ी, जनकपुर, वाराणसी, प्रयागराज, अयोध्या और रामेश्वरम आदि शामिल हैं। ट्रेन का नाम श्री रामायण एक्सप्रेस है जिसमें 800 यात्री सवार हो सकते हैं। इस ट्रेन की सेवा 14 नवंबर से शुरू हुई थी। इस ट्रेन में भारत और नेपाल के साथ ही यात्री श्रीलंका में स्थित भगवान राम से जुड़े स्थल के दर्शन कर सकेंगे।

राम से जुड़े इन स्थानों का कर सकेंगे दर्शन

राम जन्मभूमि (अयोध्या), भारत मंदिर (नंदीग्राम), सीता माता मंदिर (सीतामढ़ी), जनकपुर (नेपाल), तुलसी मानस मंदिर व संकट मोचन मंदिर (वाराणसी), संगम, हनुमान मंदिर व भारद्वाज आश्रम (प्रयाग), श्रृंगी ऋषि मंदिर (श्रृंगवेरपुर), रामघाट व सती अनसुइया मंदिर (चित्रकूट), पंचवटी (नासिक), अंजनाद्री हिल व हनुमान जन्म स्थल (हंपी) और रामेश्वरम।

यह है किराया

इंदौर से रवाना होने वाली ट्रेन का किराया 17,325 (3 एसी) व 14,175 (स्लीपर) निर्धारित है। वहीं, श्रीलंका जाने वालों को चेन्नई से हवाई मार्ग के जरिये कोलंबो ले जाया जाएगा। पांच दिन और छह रात वाले श्रीलंका के टूर पैकेज के लिए प्रति व्यक्ति को 36,950 रुपये अतिरिक्त देने होंगे। श्रीलंका में कैंडी, नुवारा एलिया, कोलंबो, नेगोंबो में रामायण काल से जुड़े स्थलों के दर्शन का मौका मिलेगा। सिर्फ 40 यात्री श्रीलंका जा सकेंगे।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस