नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव में शानदार जीत दर्ज करने वाले अरविंद केजरीवाल की जीत का जश्न मायूसी में तब्दील हो सकता है। एक आपराधिक मामले में कोर्ट अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के अन्य दो नेताओं के खिलाफ आरोप तय करने के आदेश पर फैसला बुधवार को सुनाएगी।

2013 में एक वकील को चुनावी टिकट का वादा करने के बाद मुकर जाने पर यह केस दायर किया गया है। मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट मुनीष गर्ग ने इसके पूर्व आदेश 11 फरवरी तक सुरक्षित रखा था। दिल्ली के वकील सुरिंदर शर्मा ने आप नेता केजरीवाल, मनीष सिसौदिया व योगेन्द्र यादव के खिलाफ मानहानि का केस दायर किया है। ये नेता उनके खिलाफ जारी समन पर गत वषर्ष 4 जून को कोर्ट में पेश हुए थे।

कोर्ट ने उन्हें जमानत पर छोड़ दिया था। धारा 499, 500 व 34 के तहत केस वकील सुरिंदर कुमार शर्मा ने आप नेताओं के खिलाफ भादंवि की धारा 499, 500 [मानहानि] और 34 के तहत केस दायर किया था। कोर्ट ने प्रथम दृष्टया तीनों को समन जारी करने के उपयुक्त पाया था। क्या है मामला शर्मा के अनुसार 2013 में आप के कार्यकर्ता उनके पास आए थे।

उन्होंने उनसे दिल्ली विस का चुनाव ल़़डने का अनुरोध किया और कहा कि आपकी अच्छी प्रतिष्ठा है। केजरीवाल आपकी सामाजिक सेवाओं से खुश हैं। सिसौदिया व यादव द्वारा यह कहने पर कि पार्टी की राजनीतिक मामलों की कमेटी ने आपको टिकट देने का फैसला किया है, उन्होंने पर्चा भर दिया, लेकिन बाद में टिकट देने से इनकार कर दिया गया। इससे मेरी सामाजिक प्रतिष्ठा धूमिल हुई, इसीलिए केस दायर किया गया है।

पढ़ेंः आप की ऐतिहासिक जीत में चौंकाने वाला मोड़

पढ़ेंः आप की दिल्ली जीत पर बॉलीवुड के ट्वीट्स

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस