नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। डाक्टरों के साथ मारपीट की घटनाओं के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) ने देशव्यापी विरोध प्रदर्शन की घोषणा की है। इस वजह से शुक्रवार को डाक्टर काले झंडे लेकर व चेहरे पर काला मास्क लगाकर अपना विरोध दर्ज कराएंगे। हालांकि, इससे अस्पतालों में चिकित्सा सुविधाएं प्रभावित नहीं होगी। दरअसल, हाल के दिनों में कई जगहों पर डाक्टरों के साथ मारपीट की घटनाएं हुई हैं। इसके मद्देनजर आइएमए केंद्र सरकार से सख्त कानून बनाने की मांग कर रहा है।

आइएमए का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर में देश भर में 700 से ज्यादा डाक्टरों की मौत हुई है। फिर भी डाक्टर लगातार ड्यूटी कर रहे। फिर भी मारपीट की घटनाएं सामने आई हैं। यही वजह है कि आइएमए ने विरोध प्रदर्शन की घोषणा की है। लेकिन एम्स रेजिडेंट डाक्टर्स एसोसिएशन ने इस विरोध प्रदर्शन में शामिल होने से इन्कार किया है।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के बृहस्पतिवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, 'देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में 730 डॉक्टरों की मौत हुई है जिनमें से सबसे अधिक 115 डॉक्टरों ने बिहार में जान गंवाई है। इसके बाद में दिल्‍ली में 109 डॉक्‍टरों की मौत हुई है।' आईएमए के मुताबिक उत्तर प्रदेश में 79, आंध्र प्रदेश में 38 और तेलंगाना में 37 डॉक्टरों की मौत हुई है।