डॉ देबप्रसाद चट्टोपाध्याय। भारत सरकार द्वारा देश के लॉकडाउन करने का कदम स्वास्थ्य मंत्रालय, इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) और विश्व स्वास्थ्य संगठन की सलाह पर उठाया गया। देश को कोरोना वायरस के प्रकोप से बचाने का यही एकमात्र रास्ता था। 21 दिन समयावधि के पीछे भी वैज्ञानिक आधार है। दरअसल ज्यादातर वायरस का जीवन चक्र होता है। फ्लू जब फैलता है तो उससे किसी की जान नहीं जाती। यदि दवा ली है तो 7 दिन में ठीक होगा और नहीं ली तो भी एक सप्ताह में ठीक हो जाएगा। यह इसलिए कि वायरस का जीवन चक्र खुद-ब-खुद एक सप्ताह में शरीर छोड़ देगा। मल्टीप्लीकेशन के लिए उसे बाहरी वातावरण में यदि उपयुक्त परिस्थितियां नहीं मिली तो वह खत्म हो जाएगा।

कोविड-19 नया वायरस है इसलिए अभी इसके बारे में पुख्ता रूप से कुछ कहा नहीं जा सकता कि ये हमारी प्रतिरोधक क्षमता के अनुसार खुद में क्षमता विकसित कर लेगा। लेकिन अब तक जो भी शोध प्रकाशित हुए हैं या मेरे बीते तीन दशकों के वायरस पर काम करते  हुए जो अनुभव है उसे पता लगता है कि इसकी संभावना बहुत कम है। प्रश्न यह है कि लॉकडाउन इस वायरस से दो-दो हाथ करने में कैसे मददगार होगा। दरअसल फिजिकल डिस्टैंसिंग संक्रमण को एक व्यक्ति से दूसरे में जाने से रोकने का काम करेगी। तीसरा चरण काफी खतरनाक हो सकता है। चीन, अमेरिका और यूरोप के कई देश इसी चरण से जूझ रहे हैं। समय रहते सरकार ने सख्त कदम उठाकर देश को तीसरे चरण में जाने से बचा लिया है।

यदि हम तीसरे चरण में (पांचवें सप्ताह में सामान्यतौर पर पहुंच जाना चाहिए था) पहुंचे होते तो संक्रमित लोगों की संख्या 10 गुना से अधिक हो चुकी होती जबकि अभी तक संक्रमित लोगों की संख्या में दो गुना से कुछ अधिक का ही इजाफा हुआ है। यही लॉकडाउन का सबसे बड़ा फायदा हुआ है। 21 दिन के लॉकडाउन समयसीमा इसलिए तय की गई कि जो व्यक्ति संक्रमित हो गया है वह 14 दिनों में संक्रमण से मुक्तहो जाएगा, वहीं जो लोग संक्रमित लोगों से एक्सपोज हुए होंगे उनमें भी 7 दिनों में लक्षण उभर आएंगे । यानी 14 और 7 दिन अर्थात 21 दिनों में यह साफ हो जाएगा कि कितने लोग संक्रमित हैं।

मुझे पक्का विश्वास है कि लॉकडाउन के अंतिम समय तक तस्वीर काफी साफ हो जाएगी। कम्युनिटी ट्रांसमिशन को रोकने के लिए कड़े कदम उठाए गए हैं। हर एक व्यक्ति को इसका अनुपालन कर ना चाहिए। हमारे देश में सीमित चिकित्सा सुविधाओं को लेकर भी लोग सशंकित हैं कि हम अपने सीमित संसाधनों से इस महामारी से क्या सामना कर सकेंगे? यह सही है कि हमारे यहां चीन, यूरोप, अमेरिका जितने संसाधन उपलब्ध नहीं है। ऐसे में इस लॉकडाउन से हम कोरोना वायरस के प्रसार की गति को कम करने में सफल होंगे जिससे स्वास्थ्य सेवाओं पर एक साथ दबाव नहीं पड़ेगा ।

(निदेशक,आइसीएमआर, इंस्टीट्यूट ऑफ ट्रेडिशनल मेडिसिन)

ये भी पढ़ें-:

कोरोना वायरस से बचाव को जानें आपके घर में कैसा हो खान-पान 

कोरोना वायरस पर भारी पड़ा है लॉकडाउन, कई जगहों पर दिखाई दे रहा है असर 

COVID-19: क्‍या आप जानते हैं मुंह पर मास्‍क लगाने का सही तरीका, यदि नहीं तो यहां से सीखें 

जानें दुनिया में कब-कब आया ऐसा संकट जिसने बदल दी दुनिया और उसकी सोच 

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस