नई दिल्‍ली, जेएनएन। हैदराबाद सामूहिक दुष्‍कर्म के आरोपी पुलिस एनकाउंटर में उसी जगह मारे गए हैं, जहां उन्‍होंने इंसानियत का शर्मसार करने वाली घटना को अंजाम दिया था। इस घटना के बाद एक बार फिर महिला सुरक्षा को लेकर बहस शुरू हो गई। सड़क से संसद तक महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल उठाए गए। अब दुष्‍कर्म के आरोपियों के एनकाउंटर पर बहस छिड़ गई है। आइए आपको बताते हैं दुष्‍कर्म से एनकाउंटर तक 10 दिनों की पूरी दास्‍तां...!

27 नवंबर की देर रात हुई हैवानियत

तेलंगाना के हैदराबाद के साइबराबाद में 27 नवंबर की देर रात को पशु चिकित्सक के साथ चार लोगों द्वारा सामूहिक दुष्‍कर्म की वारदात को अंजाम दिया गया था। इसके बाद आरोपियों ने डॉक्टर को गला दबाकर मार दिया। फिर नेशनल हाइवे-44 पर अंडरपास के पास आरोपियों ने डॉक्‍टर को कंबल में जलाकर मार दिया।

28 नंवबर को सोशल मीडिया पर डॉक्‍टर की फोटो वायरल

इस घटना ने देश को हिला कर रख दिया, साथ ही लोगों में जमकर आक्रोश था। ऐसे में लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी भड़ास निकाली। दोषियों को पकड़कर फांसी देने की मांग की। इस दौरान सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म पर मृत डॉक्‍टर की फोटो भी खूब वायरल हुईं। इसमें डॉक्‍टर की जली हुई बॉडी का भी एक फोटो शेयर हुआ। यह फोटो काफी वीभत्‍स थी, जिसे देखना भी बड़ा मुश्किल था।

24 घंटे के अंदर आरोपी गिरफ्तार

पशु चिकित्सक के सामूहिक दुष्‍कर्म-मर्डर की वारदात में पुलिस ने चारों आरोपियों को 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश किया था, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इसके बाद सड़क से संसद तक ये सामूहिक दुष्‍कर्म-मर्डर का मुद्दा गूंजा। महिलाओं की सुरक्षा और निर्भया फंड को लेकर भी सवाल उठने लगे।

4 दिसंबर को सभी आरोपियों को 10 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा

26 साल की महिला डॉक्टर से दुष्‍कर्म के बाद हत्या के मामले में शादनगर कोर्ट ने 4 दिसंबर को सभी आरोपियों को 10 दिन की रिमांड पर भेज दिया। पुलिस ने 3 दिसंबर को ही कोर्ट से रिमांड की मांग की थी, जिसे अगले दिन मान लिया गया। ऐसा बताया गया कि सभी आरोपियों ने पुलिस कस्‍टडी में अपना जुर्म कबूल कर लिया। आरोपियों ने 27 नवंबर की रात का कच्‍चा-चिट्ठा पुलिस को बता दिया।

Encounter Day : क्राइम सीन रिक्रिएशन के दौरान आरोपियों का एनकाउंटर

शादनगर कोर्ट ने बुधवार को चारों आरोपियों को 7 दिन की पुलिस रिमांड दी थी। इसके बाद पुलिस ने गुरुवार को पूछताछ की। गुरुवार रात ही पुलिस टीम आरोपियों को लेकर क्राइम सीन पर ले गई। यहां पर क्राइम सीन रिक्रिएट करने की कोशिश की गई। इस दौरान आरोपियों ने पुलिस पर हमला किया और वह भागने लगे। इसके बाद हुए एनकाउंटर में चारों आरोपी ढेर हो गए।

Posted By: Tilak Raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस