भोपाल, जेएनएन। क्राइम ब्रांच ने मंगलवार देर रात गुजरात जा रहे एक ट्रक से भोपाल नवाब खानदान के 100 साल पुराने दस्तावेज और नवाबी दौर में उपयोग किए जाने वाले एंटिक सामान बरामद किए हैं। इनमें चिराग समेत अन्य सामान भी हैं। ट्रक जब्त कर लिया गया है। ट्रक चालक और ट्रक में मौजूद व्यक्ति ने पुलिस को बताया कि दस्तावेज रद्दी के रूप में खरीदे गए हैं। क्राइम ब्रांच फिलहाल इस मामले में कुछ भी कहने से बच रही है।

स्टोर रूम में कई सालों से रखे थे दस्तावेज

जानकारी के अनुसार, गुजरात के व्यापारी ने भोपाल के अंतिम नवाब हमीदुल्ला खान के परिवार की फातिमा सुल्तान से यह दस्तावेज खरीदने की बात कही है। क्राइम ब्रांच ने जांच के लिए फातिमा सुल्तान से भी संपर्क किया। क्राइम ब्रांच के अफसरों के मुताबिक, फातिमा सुल्तान ने पुलिस को बताया है कि यह दस्तावेज भोपाल में उनके आधिपत्य के स्टोर रूम में कई सालों से रखे थे। उसमें कोई महत्वपूर्ण दस्तावेज नहीं हैं। फातिमा सुल्तान नवाब हमीदुल्लाह की सबसे छोटी बेटी राबिया की बहू हैं।

ट्रक को पीछा कर थाने ले जाया गया

जानकारी के अनुसार, क्राइम ब्रांच को सूचना मिली थी कि ओपल ट्रांसपोर्ट कंपनी के एक मिनी ट्रक में ब्रिटिश और नवाबी शासन काल के दस्तावेज बक्सों और बोरियों में भरे हैं। ट्रक दस्तावेज लेकर गुजरात जा रहा है। इस पर पुलिस ने पीछा कर ट्रक को रोका और उसे थाने ले जाया गया। ट्रक के क्राइम ब्रांच थाना पहुंचते ही गुजरात का व्यापारी भी थाने पहुंचा और उसने दस्तावेज को रद्दी बताया।

ब्रिटिश शासन काल के मिले कई दस्तावेज

पुलिस ने जब दस्तावेज कार्टन से निकालकर चेक किए तो उसमें ब्रिटिश और नवाबी शासन काल के कई महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले। पुलिस ने जांच के लिए ट्रक को थाने में खड़ा कर लिया है। सौ साल पुराने दस्तावेज होने का अनुमान बक्सों और बोरियों में मिले अधिकतर दस्तावेज 100 साल पुराने हैं।

पुलिस को दुर्पयोग की आशंका

सूत्रों के मुताबिक, इनमें भोपाल नवाब द्वारा दूसरी रियासतों के प्रमुखों के साथ पत्राचार वाले दस्तावेज शामिल हैं। इसके अलावा कई ऐसे दस्तावेज भी मिले हैं, जिनमें नवाबी शासन काल की जमीन, राजस्व से जुड़े मामले के आदेश हैं। पुलिस यह परीक्षण कर रही कि कहीं इनके दुर्पयोग की आशंका तो नहीं थी।

क्राइम ब्रांच एएसपी निश्चल झारिया ने बताया कि ट्रक से जो दस्तावेज बरामद हुए हैं। उनके सौ साल पुराने होने का अनुमान है। इसमें शामिल एंटिक सामान की जांच के लिए संबंधित विभाग को इसकी जानकारी दी जा रही है।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस