नई दिल्ली, प्रेट्र। गृह मंत्रालय ने सीआइएसएफ में 2,000 नए पदों के सृजन को मंजूरी दी है। इसका उद्देश्य हवाईअड्डों, परमाणु संयंत्रों, मेट्रो नेटवर्क समेत अन्य प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को और प्रभावी करना है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि हाल ही में सरकार ने सीआइएसएफ में 2,000 नए पदों के सृजन की अनुमति दी है। इसमें जवान से लेकर निरीक्षक स्तर के पद शामिल हैं। इन पदों के साथ अगले दो वर्षो के भीतर सीआइएसएफ में दो और बटालियन शामिल हो जाएंगी। प्रत्येक बटालियन में एक-एक हजार जवान शामिल होंगे। फिलहाल सीआइएसएफ में जवानों की क्षमता 1.8 लाख है।

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) देश के 60 नागरिक हवाईअड्डों, परमाणु संयंत्रों, बिजली स्टेशनों, महत्वपूर्ण सरकारी भवनों, दिल्ली मेट्रो के अलावा अन्य प्रमुख प्रतिष्ठानों की सुरक्षा करता है। सीआइएसएफ का विशेष सुरक्षा समूह (एसएसजी) वीवीआइपी को सुरक्षा भी प्रदान करता है।

सरकार इस महीने के अंत तक श्रीनगर और जम्मू हवाईअड्डों की सुरक्षा का जिम्मा भी सीआइएसएफ को सौंपने का मन बना चुकी है। इन दोनों हवाईअड्डों की सुरक्षा का जिम्मा फिलहाल जम्मू-कश्मीर पुलिस के पास है। सरकार ने साफ कर दिया है कि वह सीआइएसएफ को देश के और अधिक हवाईअड्डों के साथ-साथ वीवीआइपी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी सौंपने जा रही है। सीआइएसएफ की क्षमतावृद्धि इसी क्रम में की गई है।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2008 के मुंबई आतंकी हमले के बाद निजी क्षेत्र की संपत्तियों की रखवाली की जिम्मेदारी भी सीआइएसएफ को सौंपी गई है। इसके बाद इस फोर्स की भूमिका और बढ़ गई है। सीआइएसएफ अभी करीब एक दर्जन निजी क्षेत्र के प्रतिष्ठानों की सुरक्षा कर रही है।

Posted By: Nitin Arora

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस