मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्‍ली, एजेंसी। मुंबई में एकबार फिर भारी बारिश का दौर शुरू होने वाला है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department, IMD) ने आज यानी मंगलवार को मुंबई के अलग अलग कई इलाकों में भारी से ज्‍यादा भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। इसके अलावा हिमाचल प्रदेश के कई जिलों कुल्‍लू, मंडी, कांगड़ा, बिलासपुर, सिरमौर, सोलन और शिमला में अगले तीन घंटे तक गरज चमक के साथ हल्‍की से मध्‍यम बारिश हो सकती है।

मौसम का अलर्ट जारी करने वाली निजी एजेंसी स्‍काईमेट के मुताबिक, कर्नाटक, कोंकण, गोवा, दक्षिण ओडिशा और राजस्‍थान के पूर्वी हिस्‍से में भारी से ज्‍यादा भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। एजेंसी ने कहा है कि 31 जुलाई तक पर्वी राजस्‍थान, पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश, पंजाब और हरियाणा के कई इलाकों में हल्‍की से मध्‍यम बारिश का दौर जारी रह सकता है। यही नहीं ओडिशा के मयूरभंज, कोरापुट, संबलपुर, नवरंगपुर, नुआपड़ा, झारसुगुड़ा, बरगढ़ एवं कालाहांडी जिलों में मंगलवार को भारी बारिश होने की उम्मीद है।

देश के कई हिस्‍सों में लगातार और भारी बारिश से बाढ़ की स्थिति एकबार फि‍र से गंभीर हो गई है। छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में बीते दो दिनों से लगातार हो रही बारिश से बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है। इंद्रावती नदी खतरे के निशान के ऊपर बह रही है। बिहार में खगडि़या में कोसी और बागमती स्थिर हैं, मगर खतरे के निशान के पार बह रही हैं। उत्तर बिहार में भी सोमवार को अधिकतर नदियां स्थिर रहीं। पूर्वी चंपारण और दरभंगा जिले के कई क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा बरकरार है। 

मप्र में 27 जिलों में मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। यहां कई जिलों में बारिश का सिलसिला सोमवार को भी जारी रहा। ओडिशा के मयूरभंज, कोरापुट, संबलपुर, नवरंगपुर, नुआपड़ा, झारसुगुड़ा, बरगढ़ एवं कालाहांडी जिलों में मंगलवार को भारी बारिश होने की उम्मीद है। महाराष्ट्र में लगातार भारी बारिश से मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। सतारा जिले के कराड के समीप कृष्णा नदी पर बने 80 साल पुराने पुल का एक हिस्सा सोमवार को बाढ़ में बह गया। 

तटीय कर्नाटक, कोंकण और गोवा, दक्षिण ओडिशा में भी भारी वर्षा की चेतावनी है। उत्तराखंड और हरियाणा के उत्तरी जिलों, असम, मेघालय और नागालैंड के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है। उधर बिहार के दरभंगा-समस्तीपुर रेलखंड पर दूसरे दिन भी ट्रेनों का परिचालन ठप रहा। कोसी-सीमांचल में नदियों का जलस्तर कम होने लगा है। बिहार में विभिन्न स्थानों पर नदियों में डूबने से नौ लोगों की मौत हो गई।  

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप