नई दिल्ली,जेएनएन । दिल्ली हाईकोर्ट ने नोटबंदी के बाद शादी के लिए बैंकों से ढाई लाख रूपये निकालने की सीमा में ढील की मांग को लेकर दायर याचिका पर आज सुनवाई पूरी कर ली।कोर्ट कल इस पर अपना आदेश देगा। मुख्य न्यायाधीश जी रोहिणी और न्यायमूर्ति संगीता ढींगरा सहगल की पीठ के समक्ष इस याचिका में 1000 और 500 रूपये के पुराने नोटों को अदालत के शुल्क के रूप में स्वीकार किये जाने की मांग भी की गयी है।

याचिका पर सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि शादी के लिए ढाई लाख रूपये की निकासी की सीमा में ढील दी जानी चाहिए क्योंकि शादी समारोह के दौरान कई तरह के ‘परंपरागत दान’ करने होते हैं। केंद्र की तरफ से अतिरिक्त सालिसिटर जनरल संजय जैन ने पीठ को बताया कि सरकार पहले ही ढील दे चुकी है और अगर इस तरह की शर्तें नहीं लागू की जाएंगी तो कोई भी व्यक्ति इसका दुरुपयोग कर सकता है।

नोटबंदी के समर्थन में आए अमर सिंह, दी राज्यसभा से इस्तीफे की धमकी

अदालत के शुल्क के भुगतान के बारे में पीठ ने जैन से पूछा, ‘‘हम समझते हैं कि वे अदालत के शुल्क के लिए इसे (पुराने नोटो) को स्वीकार कर रहे हैं?’’ इसके जवाब में जैन ने पीठ को बताया कि 1000 और 500 रूपये के पुराने नोटों को अदालती शुल्क के रूप में स्वीकार किया जा रहा है और सरकार ने आम लोगों की चिंताओं को देखते हुए कई तरह की छूट दी है। सुनवाई के बाद पीठ ने कहा, ‘‘हम कल आदेश पारित करेंगे।’’ उच्च न्यायालय नोटबंदी के केंद्र सरकार के आठ नवंबर के फैसले के खिलाफ कई याचिकाओं की सुनवाई कर रहा है।

नोटबंदी का फैसला मुल्क के लिए ऐतिहासिक साबित होगा- महबूबा मुफ्ती

Posted By: Sachin Bajpai

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस