नई दिल्ली। भारत और पाकिस्तान के बीच दिल्ली में होने वाली एनएसए स्तर की वार्ता को लेकर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने प्रेस कॉफ्रेंस की। उन्होंने कहा कि भारत-पाक के बीच हर बातचीत वार्ता नहीं है। सुषमा ने कहा कि अगर पाकिस्तान नहीं मानता है तो बात नहीं होगी। उन्होंने कहा कि पाक के पास आज रात तक का वक्त है।

सुषमा स्वराज ने कहा कि अटल जी के समय शुरू हुई थी वार्ता। हर वार्ता का एक संदर्भ होता है। 8 मुद्दों पर शुरू हुई थी यह वार्ता। सुषमा ने साफ कर दिया कि जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर विदेश सचिव ही करेंगे बातचीत। युद्ध किसी समस्या का समाधान नहीं है। कल बातचीत नहीं होती है तो बातचीत रुकेगी नहीं। भारत का नेतृत्व बहुत मजबूत है, हम हर दबाव झेलने में सक्षम हैं।

प्रेस कॉफ्रेंस में विदेश मंत्री द्वारा कही गईं मुख्य बातें-

-उन्होंने कहा कि आगरा वार्ता पर पाक ने ही डाला था अड़ंगा।

-आतंक और बातचीत एक साथ नहीं हो सकती।

-उफा में कंपोजिट डॉयलाग की बहाली नहीं हुई।

-आतंकवाद, सीमा विवाद पर अलग-अलग बातचीत की सहमति बनी थी। उफा के बाद नवाज शरीफ की आलोचना हुई थी।

-सुषमा ने कहा कि 'वो डोजियर देंगे हम जिंदा आतंकी देंगे'।

-एनएसए से सिर्फ आतंकवाद पर बातचीत की सहमति हुई थी। बातचीत के न्यौते पर 22 दिन बाद जवाब मिला।

-सीजफायर पर डीजीएमओ स्तर की बातचीत होनी थी । इसका जवाब आजतक नहीं मिला।

-एनएसए स्तर की बातचीत के लिए 14 अगस्त को जवाब मिला।

-उफा के बाद 91 बार सीजफायर का उल्लंघन हुआ। हमारे ऊपर बातचीत रद्द करने का दबाव था।

-भारत भाग नहीं रहा है। बातचीत का माहौल बन रहा है। आतंकवाद के अलावा किसी और मुद्दे पर बात नहीं। बातचीत पर तीसरा पक्ष स्वीकार नहीं। शिमला समझौते के तहत ही बातचीत होगी।

-हमारी कोई शर्त नहीं है। तीसरे मुल्क में बातचीत नहीं होगी। वो आना चाहते हैं। हम बुलाना चाहते हैं। आतंकवाद के अलावा किसी और मुद्दे पर बात नहीं होगी।

-सुषमा ने कहा कि उफा में कश्मीर का कई जिक्र नहीं था। पाकिस्तान को शिमला समझौते ख्याल रखना चाहिए।

-डोजियर एक गंभीर विषय होता है। डोजियर का लेना देना चलते चलते नहीं होता है। हमारे पास जिंदा सबूत नावेद है।

पाक का आरोप अपनी शर्तों पर बात करना चाहते हैं मोदी

ये अलगाववादी नेता भारत के खिलाफ होते हैं इस्तेमाल

Posted By: Sachin Bajpai