मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बेंगलूर। दुर्घटना की शिकार हंपी एक्सप्रेस के यात्रियों ने कहा कि अपने साथी यात्रियों को जलते और चिल्लाते हुए देखना उसके एक असहनीय एवं बेहद दर्दनाक अनुभव था।

इस दुर्घटना से स्तब्ध यहां बेंगलूर रेलवे स्टेशन पर पहुंचे यात्रियों ने कहा कि जलते हुए यात्रियों की चीखें अभी भी उनके कानों में गूंज रही हैं।

गूटी [आंध्र प्रदेश] में करीब 20 यात्रियों के साथ सवार होने वाली रत्नम्मा [30] ने कहा कि वे सो रही थी कि रात करीब सवा तीन बजे जब तेज धमाके की आवाज सुनकर उनकी आंख खुल गई। उनके पति ऊपरी सीट से जमीन पर सो रहे बच्चों पर गिर गए।

रत्नम्मा ने कहा, मैंने सोचा कि यह भूकंप है। जब मैंने देखा कि अन्य यात्री बाहर जाने के लिए धक्का मुक्की कर रहे हैं, अपना सामान बाहर फेंक रहे हैं और महिलाएं चिल्ला रही हैं तब मुझे अहसास हुआ कि कुछ गड़बड़ हुआ है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप