गुवाहाटी। असम की राजधानी गुवाहाटी के व्यस्त इलाके में सरेआम नाबालिग लड़की के साथ बदसलूकी की घटना में करीब 40 लोग शामिल थे। वे सब चिल्ला रहे थे और लड़की पकड़ व नोच रहे थे। यह कहना है सोमवार की घटना के एक प्रत्यक्षदर्शी का। पहचान में आए वारदात में शामिल पांच लोगों को ही पुलिस शनिवार तक गिरफ्तार कर सकी है, बाकी करीब दर्जन भर फरार हैं। पुलिस ने इनके राज्य के बाहर भाग जाने की आशंका जताई है। शनिवार को राष्ट्रीय महिला आयोग के प्रतिनिधिमंडल ने गुवाहाटी का दौरा किया और पीड़ित लड़की के बयान लिए। मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने घटना पर खेद व्यक्त किया है। केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने भी घटना की निंदा की है।

घटना बार के सामने की है। पुलिस का दावा है कि लड़की अपने साथियों के साथ बार से शराब पीकर निकली थी। एक स्थानीय अखबार के संपादक मुकुल कलिता के अनुसार वह उस समय अपने घर जा रहे थे, तभी उन्होंने एक असहाय लड़की को पकड़ते-भागते कई लोगों को देखा। कुछ मिनट में उन्हें समझ आया कि करीब चालीस लोगों का समूह उस लड़की के पीछे पड़ा था और वह खुद को बचाने के लिए चिल्ला रही थी। उस समय लड़की के शरीर के आधे कपड़े फट चुके थे। पुलिस के मौके पर पहुंचने पर भी लोग शांत नहीं हुए और वह पुलिस वैन में बैठी लड़की को बाहर खींचने का प्रयास करते रहे।

घटना के समय का वीडियो शूट करने वाले लोकल चैनल के पत्रकार की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। उसकी मौके पर मौजूदगी और पूरे घटनाक्रम की शूटिंग से घटना में उसके शामिल होने की बात भी कही जा रही है। टीम अन्ना के सदस्य व सामाजिक कार्यकर्ता अखिल गोगोई ने पत्रकार की भूमिका की जांच की मांग की है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस