देवरिया/ महराजगंज(जेएनएन)। उत्तर प्रदेश के देवरिया और महराजगंज में कई सरकारी स्कूलों को इस्लामिया स्कूल में तब्दील कर दिया गया है। यहां जुमे(शुक्रवार) के दिन छुट्टी होती है और रविवार को स्कूल खुला रहता है।  सरकारी स्कूल को किसके अादेश से इस्लामिया स्कूल में तब्दील किया गया यह किसी को पता नहीं है। यह व्यवस्था अाज नहीं कई वर्षों से संचालित है।

इस मामले में कई बार स्थानीय लोगों द्वारा शिकायत दर्ज कराई गई, लेकिन अाज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। जब मामला शासन तक पहुंचा तो अधिकारी सकते में अा गए। अब मामले में पुराने रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं। अभी तक पता नहीं चल सका है कि इस्लामिया प्राइमरी स्कूल कब से अंकित किया जा रहा है। डीएम के निर्देश पर अब यह विद्यालय शुक्रवार को खुलेगा व रविवार को बंद रहेगा।   

स्थानीय लोगों ने कई बार की शिकायत

महराजगंज जिले के परतावल विकास खंड में स्थित जद्दू पिपरा में भी इसी तरह का मामला प्रकाश में आया है। गांव में स्थित सरकारी स्कूल इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय जद्दू पिपरा के नाम से जाना जाता है। यहां व्यवस्था का संचालन परिषदीय विद्यालयों की तरह है लेकिन, यहां छुट्टी जुमे के दिन शुक्रवार को रहती है। रविवार को पढ़ाई होती है। इस बाबत स्थानीय लोगों द्वारा कई बार शिकायत भी की गई लेकिन हर स्तर पर अनसुनी होने से यह विद्यालय मनमाने ढर्रे पर चल रहा है।

दशकों पूर्व चली अा रही परंपरा

वर्तमान में विद्यालय में 55 बच्चे पढ़ते हैं। ग्रामीणों की माने तो आजादी पूर्व 1931 से यहां स्कूल का संचालन होता आया है। बाद में परिषदीय स्कूल खोला गया तो इसे इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय जद्दू पिपरा नाम दे दिया गया। दशकों पूर्व तत्कालीन ग्राम प्रधान व प्रधानाध्यापक की सहमति से इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय में शुक्रवार के दिन छुट्टी और रविवार के दिन पढ़ाई का निर्णय लिया गया। तभी से शुक्रवार को स्कूल बंद करने की परंपरा चली आ रही है। विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक तीर्थराज प्रसाद ने बताया कि शुक्रवार की जगह रविवार को छुट्टी करने के लिए कई बार विभागीय अधिकारियों से गुहार लगाई गई लेकिन, अब तक कहीं से कोई दिशा निर्देश नहीं मिला।

जांच रिपोर्ट मिलने पर होगी कार्रवाई

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी जगदीश प्रसाद शुक्ल का कहना है कि मामला उनके संज्ञान में है। यदि बेसिक शिक्षा परिषद से इस विद्यालय का संचालन हो रहा है तो छुट्टी रविवार को होनी चाहिए। इस संबंध में परतावल के खंड शिक्षा अधिकारी को जांच सौंपी गई है। जांच रिपोर्ट मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं महराज के डीएम अमरनाथ उपाध्याय ने कहा कि 'परंपरा और रूढि़यां विद्यालय संचालन में बाधक नहीं बनेंगी। पूरे प्रकरण की जांच कराई जाएगी। नियमानुसार विद्यालय का संचालन सुनिश्चित किया जाएगा।

देवरिया में कई परिषदीय विद्यालय बने इस्लामिया स्कूल

देवरिया जनपद में नवलपुर ही नहीं, भलुअनी विकास के प्राथमिक विद्यालय जैतपुरा समेत चार विद्यालयों का नाम इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय रखा गया है। यहां इस्लामिक पद्धति से पढ़ाई होती है। रविवार की जगह शुक्रवार को अवकाश रहता है। रामपुर कारखाना के करमहां, ईश्वरी पोखरभिडा, देसही देवरिया व शामी पट्टी गांव में भी प्राथमिक विद्यालयों का इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय अंकित किया गया है। इन विद्यालयों के जिम्मेदारों से भी स्पष्टीकरण मांगने की तैयारी है।

इन विद्यालयों की दीवारों पर बकायदे इस्लामिया विद्यालय अंकित है। भलुअनी विकास खंड में प्राथमिक विद्यालय जैतपुरा का नाम प्राथमिक इस्लामिया विद्यालय जैतपुरा रखा गया है। गांववालों का कहना है कि यह परंपरा आजादी के समय से चली आ रही है और आज भी इसी नाम से स्कूल चलता है। इस विद्यालय पर अधिकतर प्रधानाध्यापक अल्पसंख्यक समुदाय के ही थे। पहले इस विद्यालय पर सभी कार्य व पठन-पाठन उर्दू व अरबी में होते थे। जब उर्दू पढ़ाने लिखाने में कठिनाई होने लगी तो हिंदी में पढ़ाई शुरू की गई। आज भी इस विद्यालय पर उर्दू अध्यापक की तैनाती है। अल्पसंख्यकों का गांव होने के चलते अधिकतर बच्चे इसी वर्ग से हैं। यहां वर्षों से सरकारी छुट्टी के नियम का मखौल उड़ाया जा रहा है।

विद्यालय पूरी तरह से इस्लामिया पद्धति से संचालित

इस विद्यालय मे उपस्थिति रजिस्टर मे छात्रों की संख्या 150 से अधिक है। इस विद्यालय में प्रधानाध्यापक संतोष यादव, सहायक अध्यापक लतीफ अहमद, नूर जन्नत, शिक्षामित्र फरहत सुल्ताना व रीना की तैनाती है। प्रधानाध्यापक संतोष यादव का कहना हैं कि शुक्रवार को यहां अवकाश होने व रविवार को स्कूल खुलने की सूचना अधिकारियों को पूर्व में दी गई थी, लेकिन कोई निर्देश नहीं मिला। मेरे आने के पहले यह विद्यालय पूरी तरह से इस्लामिया पद्धति से संचालित होता था। पहले विद्यालय में पढ़ाई से लेकर सभी कार्य उर्दू में होते थे। उर्दू न जानने के कारण हिंदी व उर्दू दोनों में होने लगा है। विद्यालय प्रत्येक शुक्रवार को बंद रहता है और रविवार को खुला रहता है। इसको उपस्थिति रजिस्टर मे दर्शाया जाता है। खंड शिक्षा अधिकारी भलुअनी प्रभात कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि जैतपुरा में भी इस्लामिया विद्यालय जानकारी मिली है। सोमवार को प्रधानाध्यापक से स्पष्टीकरण मांगा जाएगा। यदि नियम विरुद्ध तरीके से जो भी विद्यालय संचालित होंगे। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

इस्लामिया स्कूल नामकरण को लेकर खंगाले जा रहे रिकार्ड

देवरिया जिले के सलेमपुर के प्राथमिक विद्यालय नवलपुर का नाम इस्लामिया प्राइमरी स्कूल किए जाने के मामले में पुराने रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं। अभी तक पता नहीं चल सका है कि इस्लामिया प्राइमरी स्कूल कब से अंकित किया जा रहा है। डीएम के निर्देश पर अब यह विद्यालय शुक्रवार को खुलेगा व रविवार को बंद रहेगा। वहीं जनपद में छह से अधिक प्राथमिक विद्यालयों के नाम इस्लामिया प्राथमिक विद्यालय रखने का मामला सामने आने पर बेसिक शिक्षा विभाग हरकत में है। बीएसए ने विभागीय दिशा-निर्देशों के मुताबिक विद्यालयों को संचालित कराने का निर्देश दिया है। इसके लिए सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को सख्त हिदायत दी है।

शासन के दिशा-निर्देशों के मुताबिक संचालित कराने का निर्देश 

 सलेमपुर के इस्लामिया प्राइमरी स्कूल नवलपुर सुर्खियों में आने के बाद अब जनपद के सभी ब्लाकों में इस तरह के संचालित विद्यालयों की खोजबीन शुरू होने पर इनका पता चला है। भलुअनी के जैतपुरा, रामपुर कारखाना के करजहां, ईश्वरी पोखरभिंडा, शामी पट्टी व देसही देवरिया में भी इस तरह के विद्यालय संचालित हो रहे हैं। वहीं जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने नवलपुर में इस्लामिया स्कूल नाम से प्राथमिक विद्यालय संचालित किए जाने के प्रकरण में बीएसए से रिपोर्ट मांगी है। बीएसए के निर्देश पर खंड शिक्षा अधिकारी सलेमपुर ने प्रधानाध्यापक खुर्शेद अहमद से स्पष्टीकरण मांगा है, लेकिन अभी प्रधानाध्यापक का जवाब नहीं आया है। इस संबंध में बीएसए संतोष कुमार देव पांडेय ने बताया कि सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को पत्र लिखकर शासन के दिशा-निर्देशों के मुताबिक संचालित कराने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि यदि इसके बाद भी यह विद्यालय नियम विरुद्ध तरीके से संचालित होते हैं तो इसकी जिम्मेदारी खंड शिक्षा अधिकारी की होगी और उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

रविवार को विद्यालय बंद रखने का निर्देश

देवरिया के जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने कहा कि विद्यालय 1904 से संचालित है। इसका नाम इस्लामिया प्राइमरी स्कूल रखे जाने की जांच कराई जा रही है। इसके लिए पुराने रिकार्ड खंगाले जा रहे हैं। फिलहाल रविवार को विद्यालय बंद रखने का निर्देश दिया गया है।

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप