PreviousNext

एक लाख करोड़ रुपये की शत्रु संपत्तियां होंगी नीलाम, सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में

Publish Date:Sun, 14 Jan 2018 04:58 PM (IST) | Updated Date:Mon, 15 Jan 2018 07:47 AM (IST)
एक लाख करोड़ रुपये की शत्रु संपत्तियां होंगी नीलाम, सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश मेंएक लाख करोड़ रुपये की शत्रु संपत्तियां होंगी नीलाम, सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में
शत्रु संपत्तियों के बेचने से सरकार को करीब एक लाख करोड़ रुपये की भारी धनराशि प्राप्त होगी।

नई दिल्ली (पीटीआई)। देश में एक लाख करोड़ रुपये से अधिक की करीब 9,400 शत्रु संपत्तियों को नीलाम करने की तैयारी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने ऐसी संपत्तियों के पहचान की प्रक्रिया शुरू की है। गृह मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि 49 साल पुराने कानून में संशोधन के बाद यह कदम उठाया जा रहा है।

हाल ही में हुई बैठक के दौरान गृह मंत्री राजनाथ सिंह को बताया गया कि 6,289 शत्रु संपत्तियों का सर्वेक्षण पूरा हो चुका है। शेष 2,991 संपत्तियां जो संरक्षक को सौंपी गई हैं, उनके सर्वेक्षण का काम पूरा किया जाना है। इसके बाद राजनाथ सिंह ने बाधा रहित संपत्तियों को जल्द बेचने का निर्देश दिया। अधिकारी ने बताया कि इन संपत्तियों के बेचने से सरकार को करीब एक लाख करोड़ रुपये की भारी धनराशि प्राप्त होगी। पाकिस्तान में भारतीयों की ऐसी ही संपत्तियों को बेच दिया गया है।

 क्या है शत्रु संपत्ति

पाकिस्तान और चीन की नागरिकता लेने वाले लोगों की भारत में छोड़ी गई संपत्ति को शत्रु संपत्ति कहा जाता है। नए शत्रु संपत्ति (संशोधन एवं पुष्टि) कानून के तहत विभाजन के दौरान पाकिस्तान और चीन चले गए लोगों की भारत में छोड़ी गई संपत्ति पर उनके वारिस का दावा नहीं होगा। इन संपत्तियों को केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए भारतीय शत्रु संपत्ति संरक्षक को सौंप दिया गया है।

 उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा

पाकिस्तानी नागरिकों द्वारा छोड़ी गईं 9,280 संपत्तियों में से सबसे ज्यादा 4,991 उत्तर प्रदेश में हैं। इसके बाद पश्चिम बंगाल में 2,735 और दिल्ली में 487 ऐसी संपत्तियां हैं। चीनी नागरिकों द्वारा छोड़ी गईं 126 संपत्तियों में सबसे ज्यादा 57 मेघालय में हैं। जबकि पश्चिम बंगाल में 29 और असम सात में हैं।

1968 में बना कानून

1965 के भारत-पाक युद्ध के बाद ऐसी संपत्तियों के नियमन के लिए 1968 में शत्रु संपत्ति कानून बनाया गया। इसमें संरक्षक को शक्तियां प्रदान की गईं। महमूदाबाद के राजा के नाम से मशहूर राजा मुहम्मद आमिर मुहम्मद खान के वारिसों के दावे के बाद सरकार ने 2017 में कानून में संशोधन किया। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में उनकी काफी संपत्तियां हैं।

यह भी पढ़ें: बेनामी पर गाज : फ्लैट, जेवरात, वाहन सहित 3500 करोड़ की 900 संपत्तियां जब्त

यह भी पढ़ें: कार्रवाई से बचने को पूर्व मंत्री अयोध्या पाल ने बेच दी कई संपत्तियां

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Government plans to auction enemy properties worth Rs 1 lakh crore(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

जज विवाद: अब 4 पूर्व जजों ने लिखा चीफ जस्टिस को यह खुला खतयुवाओं को 'जॉब सीकर' के बजाय 'जॉब गिवर' बनने को करें प्रेरित : राष्ट्रपति