नई दिल्ली। देशभर के स्कूलों को एक साल में शौचालय से युक्त करने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वादे को पूरा करने के लिए सरकार मशक्कत कर रही है। 4.19 लाख शौचालय बनाने के लक्ष्य से सरकार काफी पीछे है।

मोदी ने पिछले साल स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अपने संबोधन में एक साल के अंदर सभी स्कूलों में शौचालय निर्माण का वादा किया था। स्वतंत्रता दिवस समारोह में अभी बमुश्किल तीन सप्ताह ही बाकी हैं। लेकिन सरकार ने पिछले सप्ताह संसद में बताया कि अब तक 2.86 लाख शौचालयों का ही निर्माण किया गया है। बहरहाल अंडमान एवं निकोबार, दमन एवं दीव, दादरा एवं नगर हवेली, केरल, पुडुचेरी और सिक्किम जैसे राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों ने सौ फीसद लक्ष्य हासिल कर लिया है।

मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में लिखित जवाब में बताया कि गुजरात और कर्नाटक इस लक्ष्य को हासिल करने के बेहद करीब हैं। 'स्वच्छ विद्यालय' पहल के तहत 4.19 लाख शौचालयों को पूरा करने का लक्ष्य है। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों ने 1.67 लाख शौचालयों, जबकि निजी क्षेत्र ने 4,562 शौचालयों के निर्माण में सहयोग की प्रतिबद्धता दिखाई है।

बहरहाल, मंत्रालय लक्ष्य को हासिल करने के लिए आशान्वित है। अभियान शीघ्र पूरा करने के लिए वरिष्ठ अधिकारी भी राज्यों का दौरा कर रहे हैं। राष्ट्रीय स्तर पर निरंतर इसकी प्रगति पर निगरानी की जा रही है। स्मृति ने बताया कि इसके अलावा, 'स्वच्छ विद्यालय' पहल के तहत इसकी प्रगति की समीक्षा के लिए 310 केंद्रीय पर्यवेक्षकों को भी नियुक्त किया गया है।

Posted By: Gunateet Ojha