नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्रिमंडल में गुरुवार को तेलंगाना पर रिपोर्ट और नए राज्य के गठन के लिए तैयार विधेयक के मसौदे पर चर्चा होगी। ऐसा इसलिए कि मंत्री समूह (जीओएम) ने बुधवार की रात अपना काम खत्म कर लिया। आंध्र प्रदेश के बंटवारा के मुद्दे पर वाईएसआर कांग्रेस प्रमुख जगनमोहन रेड्डी ने बुधवार को तमिलनाडु के दोनों शीर्ष नेताओं मुख्यमंत्री जयललिता और द्रमुक के नेता एम करुणानिधि से मुलाकात की।

माना जाता है कि उसने तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और कांग्रेस के कुछ नेताओं के भारी विरोध के बावजूद रायलसीमा के दो जिलों कुर्नूल व अनंतपुर के प्रस्तावित राज्य में विलय की संस्तुति कर दी है।

घंटे भर चली बैठक के बाद गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने संवाददाताओं से कहा कि मंत्री समूह (जीओएम) ने अपनी प्रक्रिया पूरी कर ली है और कैबिनेट उसकी संस्तुतियों पर गुरुवार को चर्चा करेगी। कुर्नूल व अनंतपुर जिले हैदराबाद के नजदीक हैं और इनमें मुस्लिम आबादी अधिक है। अब तेलंगाना में इन दोनों जिलों के विलय पर अंतिम निर्णय गुरुवार को कैबिनेट करेगी। यदि प्रस्ताव स्वीकृत हुआ तो अविभाजित आंध्र प्रदेश दो बराबर भागों में बंटकर दो राज्य बन जाएगा जिनमें 21-21 लोकसभा की सीटें होंगी।

दोनों राज्यों में विधानसभा की 147-147 और विधान परिषद की 45-45 सीटें होंगी। मंत्री समूह संपत्ति के बंटवारे, सीमा, पानी की हिस्सेदारी, अफसरों के कैडर के बंटवारे के मुद्दों पर सहमत दिखा। माना जाता है कि जीओएम ने दोनों राज्यों को संविधान के अनुच्छेद 371 डी के तहत विशेष दर्जा देने की संस्तुति की है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर