भोपाल [नई दुनिया ब्यूरो]। स्कूली शिक्षा का भगवाकरण करने के आरोपों को नजरअंदाज करते हुए मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार ने फैसला लिया है कि स्कूलों में बच्चों को अब गीता भी पढ़ाई जाएगी। इस संबंध में स्कूल शिक्षा विभाग ने अधिसूचना जारी कर दी है। माध्यमिक शिक्षा मंडल की कक्षा 9 से 12 में विशिष्ट हिंदी और कक्षा 11 एवं 12 की स्पेशल अंग्रेजी की पाठ्य पुस्तकों में श्रीमदभगवत गीता के प्रसंगों को जोड़ा गया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विद्यार्थियों संस्कारित बनाने के लिए स्कूलों में इस तरह के पाठ पढ़ाए जाने की घोषणा की थी। गीता के कुछ अध्यायों को स्कूली शिक्षा में अनिवार्य करने को लेकर विभिन्न धर्मो एवं राजनीतिक हल्कों से विरोध के स्वर भी उभरे थे। सूत्रों का कहना है कि सरकार तीन सालों से गीता को पाठ्यक्रम में शामिल करने का प्रयास कर रही है।

उधर, कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा का कहना है कि भाजपा संघ की वाहवाही लूटने के लिए शिक्षा का भगवाकरण कर रही है। इस संबंध में स्कूल शिक्षा मंत्री अर्चना चिटनीस ने कहा, गीता कोई विषय के रूप में नहीं, बल्कि हिंदी और अंग्रेजी की पुस्तकों में उसके प्रसंगों को जोड़कर पढ़ाई जाएगी। इससे बच्चों को अच्छे संस्कार मिलेंगे और उनकी नैतिक शिक्षा में उन्नति होगी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट