नई दिल्‍ली (ऑनलाइन डेस्‍क)। धरती के करीब से होकर गुजरने वाले एस्‍ट्रॉयड को लेकर हमेशा वैज्ञानिकों की उत्‍सुकता बरकरार रहती है। इस तरह की घटनाएं जब भी होती हैं इससे जुड़े वैज्ञानिक अंतरिक्ष में टकटकी लगाकर देखते हैं। ऐसी की घटना आज (बुधवार, 21 जुलाई 2021) को भी होने वाली है। आज होने वाली ये घटना इसलिए भी खास है क्‍योंकि आज धरती के करीब से गुजरने वाले एस्‍ट्रॉयड एक या दो नहीं बल्कि तीन हैं। इसकी जानकारी नासा ने साझा की है।

नासा से मिली जानकारी के मुताबिक आज जो एस्‍ट्रॉयड धरती के पास से गुजरने वाले हैं उनका आकार एक घर से लेकर एक बड़े हवाई जहाज तक का है। नासा की वेबसाइट पर जो जानकारी है उसके मुताबिक वैज्ञानिकों ने इनका नामकरण 2021 NO3, 2021 NO2, 2021 NA8 और 2021 NB6 से किया है। नासा की जानकारी के मुताबिक 2021 OP एस्‍ट्रॉयड, जो आकार में करीब 140 फीट (विमान जितना) बड़ा था, 20 जुलाई 2021 को धरती से करीब 6936273 किमी की दूरी से निकल गया है।

आज जो एस्‍ट्रॉयड धरती के पास से गुजरेंगे उनमें से 2021 एनबी6 का आकार 53 फीट है। ये आज धरती से 914107 किमी की दूरी से गुजरने वाला है। इसी तरह से आकार में करीब 64 फीट चौड़ा 2021 एनए 8 एस्‍ट्रॉयड धरती के 1446800 किमी की दूरी से गुजरेगा। 2021 एनओ2 एस्‍ट्रॉयड आकार में 63 फीट चौड़ा है जो धरती से 2671511 किमी की दूरी से धरती के पास से गुजर जाएगा। आज धरती के पास से गुजरने वाला 2021 एनओ3 एस्‍ट्रॉयड इन सभी में सबसे विशाल है। इसका अनुमानित तौर पर आकार 210 फीट है। ये धरती से करीब 3572744 किमी की दूरी से गुजरेगा।

आपको बता दें कि धरती ये करीब 6 लाख मील की दूरी पर एस्‍ट्रॉयड बेल्‍ट है। इस एस्‍ट्रॉयड बेल्‍ट में अनगिनत छोटे और बड़े आकार के एस्‍ट्रॉयड चक्‍कर लगाते रहते हैं। कई बार ये आपस में हुई जबरदस्‍त टक्‍कर के बाद इस बेल्‍ट से निकल जाते हैं और खुले ब्रह्मांड में चक्‍कर लगाने लगते हैं। कई बार ऐसा भी होता है कि ये एस्‍ट्रॉयड धरती की गुरुत्‍वाकर्षण शक्ति के संपर्क में आने के बाद धरती के वातावरण में प्रवेश कर जाते हैं और बड़ी तेजी के साथ नीचे गिरने लगते हैं।

तेजी से नीचे गिरते हुए ये एक आग के गोले में तब्‍दील हो जाते हैं। इस दौरान इनका आकार ही ये तय करता है कि इनके धरती से टकराने पर क्‍या होगा। फरवरी 2013 में इसी तरह का एक एस्‍ट्रॉयड रूस के चेल्‍याबिंस्‍क में गिरा था। उस वक्‍त इसकी धरती से टक्‍कर पर भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। इसकी तेज आवाज की वजह से कई जगहों पर मकानों के शीशे और दरवाजे टूट गए थे। जिस जगह पर ये गिरा था वहां पर एक बड़ा गड्ढा भी हो गया था।

Edited By: Kamal Verma