नई दिल्ली (जेएनएन)। अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई ने एक बार फिर पाकिस्तान को आडे हाथों लिया हैं। समाचार एजेंसी एएनआई से बात करते हुए उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के पास इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि पाकिस्तान जैसी विदेशी ताकतें आतंकी संगठन आइएस को मदद कर रही हैं।

वहीं भारत-अफगान रिश्तों पर बात करते हुए अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति करजई ने कहा कि भारत-अफगान संबंध सदियों पुराने हैं, और दोनों के बीच संबंध हमेशा गहरे बने रहेंगे। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के विकास में भारत की अहम भूमिका रही है। उम्मीद है कि अफगानिस्तान के विकास में भारत हमेशा साथ देता रहेगा।

जानिए, बलूच मुद्दे पर क्यों भारत के साथ आए बांग्लादेश-अफगानिस्तान

बलूचिस्तान के मुद्दे पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमारी सहानुभूति बलूचिस्तान के लोगों के साथ है, और उनके कष्टों का अंत होना चाहिए। आपको बता दें कि इससे पहले हामिद करजई ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से बलूचिस्तान में हो रहे मानवाधिकारों के हनन का मुद्दा उठाने पर भी पीएम मोदी की तारीफ की थी।

करजई ने कहा था कि भारत को पाकिस्तान के उकसावे को जवाब देने का हक है। उन्होंने कहा था, 'पाकिस्तानी एजेंसियां आजादी से अफगानिस्तान और भारत को लेकर बात करती रहती है। लेकिन, ऐसा पहली बार है कि भारत के प्रधानमंत्री ने बलूचिस्तान पर टिप्पणी की हो।

पढ़ें- आत्मघाती हमले में हामिद करजई के चचेरे भाई की मौत

Posted By: kishor joshi