चेन्नई, एजेंसी। भारत में चेन्नई के कट्टुपल्ली में एलएंडटी के शिपयार्ड में मरम्मत के लिए आया अमेरिकी नौसैनिक जहाज चार्ल्‍स ड्रू का मरम्मत का काम बुधवार पूरा हो गया। नौसेना के जहाज पर नियमित रखरखाव और चालक दल की रहने की क्षमता प्रणाली और उपकरणों की मरम्मत की गई। अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास कार्यालय ने यह जानकारी दी।

मरम्मत के लिए भारत आने वाला पहला अमेरिकी जहाज

भारत में मरम्मत के लिए आने वाला पहला अमेरिकी नौसैनिक जहाज चार्ल्स ड्रू उत्तरी चेन्नई में एलएंडटी के कट्टुपल्ली शिपयार्ड में सात अगस्त को पहुंचा था। उस समय अधिकारियों ने बताया था कि नौसैनिक जहाज के मरम्मत और रखरखाव कार्य 17 अगस्त तक पूरा हो जाएगा। मालूम हो कि चार्ल्स ड्रू आमेरिकी Military Sealift Command's (MSC) लुईस और क्लार्क क्लास ड्राई कार्गो जहाज है ।

भारत और अमेरिका के बीच रणनीतिक साझेदारी में होगी बढ़ोतरी

चेन्नई में अमेरिकी महावाणिज्य दूत जूडिथ रविन ने कहा कि अमेरिकी नौसैनिक जहाज की मरम्मत एलएंडटी ने किया है, जो एक ऐतिहासिक विकास को दर्शाता है। इस मरम्मत कार्य को अमेरिका और भारत के साझेदारी के प्रतीक के रूप में मानाया जाएगा। रक्षा सचिव अजय कुमार ने कहा कि अमेरिकी जहाजों को लॉजिस्टिक्स और मरम्मत करने की भारत की पहल भारत और अमेरिका के बीच रणनीतिक साझेदारी को और आगे बढ़ाएगा। इससे हिंद-प्रशांत पहले के तहत दक्षिण एशिया में शांति और सद्भाव को बढ़ावा मिलेगा।

अमेरिकी मंत्रियों ने व्यक्ति किया था इरादा 

भारत और अमेरिका के बीच अप्रैल में हुए 2+2 मंत्रिस्तरीय वार्ता के दौरान अमेरिकी रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन और अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन दोनों ने भारत में जहाजों के मरम्मत और रखरखाव करने का इरादा व्यक्त किया था।

अमेरिकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है मरम्मत कार्य

अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास कार्यालय द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक अमेरिकी नौसेना का जहाज भारत में मरम्मत सुविधाओं का उपयोग करने के लिए अमेरिकी नौसेना और रक्षा विभाग की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

Edited By: Sonu Gupta