तिरुअनंतपुरम, प्रेट्र। केरल में बारिश और तूफान से बाढ़ का कहर जारी है। इसके चलते राज्य में अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 54 हजार लोग बेघर हो गए हैं। मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन और कई मंत्रियों सहित विपक्षी दल के नेताओं ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्र इडुक्की, वायनाड, कलीकट और कोच्चि का दौरा किया। वहीं गृहमंत्री राजनाथ सिंह 12 अगस्त यानी रविवार को केरल का दौरा करेंगे।

मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों में भारी बारिश की आशंका जताई है। साथ ही वायनाड, इडुक्की, आलप्पुषा, कोट्टायम, एर्नाकुलम, पलक्कड़, मलप्पुरम और कोझिकोड जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है। केरल भीषण बाढ़ के चलते आधे से ज्यादा डूब चुका है। दक्षिण भारत के तटीय राज्य में पिछले दो दिनों से जारी अनवरत बरसात ने बांधों, सरोवरों और नदियों को बाढ़ग्रस्त कर दिया है। सैकड़ों घर और राजमार्गो के कई हिस्से टूटकर पानी में बह गए हैं। राज्य की 40 नदियां विकराल रूप धारण किए हैं। 

 

शुक्रवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने केरल के मुख्यमंत्री पिन्नाराई विजयन से फोन पर बात की और उन्हें बचाव और राहत कार्य के लिए हरसंभव मदद देने का आश्वासन दिया। सिंह ने ट्वीट करके बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय केरल में बाढ़ के हालात पर नजर रखे हुए है। दक्षिण-पश्चिम मानसून ने केरल पर कहर बरपा रखा है। इससे राज्य में पिछले दो दिनों से मूसलाधार बारिश हो रही है।

 

केरल के 14 में से सात जिलों में सेना की पांच टुकडि़यों को राहत कार्य के लिए तैनात किया गया है। यह बाढ़ग्रस्त लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने के अलावा अस्थाई पुल भी बनाएगी। वहीं, नौसेना की दक्षिणी कमान को भी अलर्ट कर दिया गया है। चूंकि पेरियार नदी का जलस्तर इतना बढ़ गया है कि कोच्चि के वेलिंगडन द्वीप के कुछ हिस्से डूब सकते हैं।

राज्य के अधिकारियों ने बताया कि उत्तरी और मध्य केरल में विगत आठ अगस्त से घनघोर बारिश हो रही है। शुक्रवार को तीन लोगों की मौत के साथ ही इसमें अब तक 29 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से 25 लोगों की मौत भूस्खलन से हुई जबकि चार अन्य डूब गए। राज्य सरकार के अधिकारियों के मुताबिक 53,501 बेघर लोगों को अब राज्य भर में 439 राहत शिविरों में रखा गया है।

इसी तरह पर्वतीय इड्डुकी जिले में जगह-जगह सड़कें टूटने से पर्यटक वहां फंस गए। सेना कोझिकोड और वायानाड जिले के विभिन्न स्थानों पर छोटे-छोटे पुल बनाकर लोगों को बाहर निकाल रही है और उन्हें सुरक्षित स्थानों पर भेज रही है। इड्डुकी सरोवर के पानी का बहाव बढ़ने पर इड्डुकी और आसपास के जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।

केरल के पर्यटन मंत्री कडकमपल्ली सुरेंद्रन ने बताया कि 24 विदेशी पर्यटकों समेत कम से कम 50 पर्यटकों को मुन्नार के प्लम जुडी रिजार्ट से सुरक्षित बाहर निकाला गया है। यह लोग यहां विगत बुधवार से फंसे थे। राज्य के राजस्व मंत्री ई.चंद्रशेखरन ने बाढ़ के हालात की समीक्षा की।

 

Posted By: Arun Kumar Singh