जागरण संवाददाता, जालंधर छावनी। यहां के परागपुर के साथ लगते रंजीत एंक्लेव में सोमवार शाम घर के बाहर खेल रही मेजर की बेटी का आल्टो कार सवार लोगों ने अपहरण कर लिया। कार में एक महिला और पुरुष सवार थे। वारदात के करीब एक घंटे बाद ही अपहरणकर्ताओं ने बच्ची की मां को फोन कर डेढ़ करोड़ की फिरौती मांगी है। घटना के बाद पुलिस कमिश्नर ईश्वर सिंह समेत पुलिस फोर्स मौके पर आ गई।

रंजीत एंक्लेव में रहने वाले सेवानिवृत मेजर जनरल हरजिंदर सिंह के घर में उनकी बेटी नवनीत अपनी साढ़े चार साल की बेटी जिया के साथ रहती थी। उनका दामाद सुखजीत सिंह भी सेना में मेजर है और फिरोजपुर में तैनात है। सोमवार शाम जिया घर के बाहर खेल रही थी कि सफेद रंग की आल्टो कार में आई एक महिला ने उसे नाम से आवाज दी। कार में एक पुरुष भी था। जिया आवाज सुनकर महिला के पास आई और कार में बैठ गई। फिर हंसते हुए उसके साथ खेल रहे बच्चों को बाय कर चली गई। कुछ देर बाद नवनीत को बच्ची नहीं मिली तो उसकी तलाश शुरू हुई।

पढ़ें: पति के सामने नवविवाहिता को किया अगवा

सूत्रों के अनुसार थोड़ी देर बाद ही नवनीत को फोन आया कि बच्ची सलामत चाहते हो तो पुलिस को बिना सूचित किए डेढ़ करोड़ रुपये की फिरौती दो। हालांकि परिजनों ने फिरौती का फोन आने से साफ इनकार किया है। वारदात की सूचना मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। पुलिस जांच में सामने आया है कि आल्टो कार तीन दिन से इलाके में घूम कर रेकी कर रही थी। वारदात के तरीके से लग रहा है कि इसके पीछे किसी अपने का ही हाथ है। बच्ची पड़ोस में ही बचपन प्ले स्कूल में पढ़ती है। जिया नवनीत की इकलौती बेटी थी। पुलिस वारदात को ट्रेस करने में लगी है।

पढ़ें: वायु सेना के पायलट ने की खुदकुशी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस