नई दिल्‍ली, पीटीआइ। निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz) में शामिल तबलीगी जमात के लोगों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि होने के बाद अब उन लोगों का पता लगाया जा रहा है जो जमातियों के संपर्क में आए थे। इंडियन रेलवे (Indian Railways) भी दिल्ली में पांच ट्रेनों के जरिए तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) में भाग लेने वाले लोगों के साथ साथ सफर शुरू करने वाले हजारों यात्रियों के बारे में जानकारियां जुटाने में लग गया है।

तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के कार्यक्रम में भाग लेने आए लोगों को लेकर उक्‍त सभी पांच ट्रेनें 13 से 19 मार्च के बीच दिल्ली से रवाना हुई थीं। इनमें आंध्र प्रदेश जाने वाली दुरंतो एक्सप्रेस (Duronto Express), चेन्नई तक जाने वाली ग्रैंड ट्रंक एक्सप्रेस (Grand Trunk Express), चेन्नई को ही जाने वाली तमिलनाडु एक्सप्रेस (Tamil Nadu Express), नई दिल्ली-रांची राजधानी एक्सप्रेस (New Delhi-Ranchi Rajdhani Express) और एपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस शामिल हैं।

हालांकि, रेलवे (railways) के पास यह जानकारी नहीं है कि जमातियों (participants of the event) के संपर्क में कितने लोग आए हैं। वहीं सूत्रों का कहना है कि हर ट्रेन में लगभग 1000-1200 यात्री और रेलवे कर्मचारी होते हैं और इन सभी को संक्रमण का खतरा हो सकता है। वहीं राज्य के अधिकारियों का कहना है कि रेलवे जिला अधिकारियों को यात्रियों की सूचियां मुहैया करा रहा है जिन्‍हें जमात में शामिल लोगों की सूची से मिलाया जा रहा है।  

जिन यात्रियों के बारे में पता लगाया जा रहा है, उनमें एक मामला 10 इंडोनेशियाई से संबंधित है जो 13 मार्च को आंध्र प्रदेश एक्सप्रेस से करीमनगर गए थे और कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसके अलावा नई दिल्ली-रांची राजधानी एक्सप्रेस के बी-1 बोगी में यात्रा करने वाले 60 यात्रियों की निगरानी करते हुए उनके मौजूदा ठिकाने के बारे में जानकारी हासिल की जा रही है। 16 मार्च को इसी बोगी में यात्रा कर रही एक इंडोनेशियाई महिला कोरोना संक्रमित पाई गई है। 

इंडोनेशियाई महिला के साथ 23 अन्य यात्री भी सफर कर रहे थे। माना जा रहा है कि महिला तब्लीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुई थी। सूचना के अनुसार, जमात के कार्यक्रम में शामिल होकर 18 मार्च को दूरंतो एक्सप्रेस की एस-8 बोगी में अपने दो सहयोगियों के साथ यात्रा करने वाले दो लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। इसी प्रकार ग्रैंड ट्रंक एक्सप्रेस की एस-3 बोगी में दो नाबालिगों के साथ यात्रा करने वाले दो और तमिलनाडु एक्सप्रेस से यात्रा करने वाली एक जोड़ी संक्रमित पाई गई है।

यह कवायद इसलिए की जा रही है ताकि निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz) में शामिल तबलीगी जमात के लोगों के संपर्क में आए यात्रियों का पता लगाया जा सके और समय रहते ही इन यात्रियों को आइसोलेट किया जा सके ताकि कोरोना संक्रमण बाकी लोगों में नहीं फैल पाए। यही नहीं केंद्र सरकार भी देशभर में तबलीगी जमात से जुड़ी गतिविधियों का ब्योरा अधिकारियों को मुहैया करा रही है ताकि संक्रमण पर लगाम लगाई जा सके।

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस