गुना, जेएनएन। मध्य प्रदेश के सिलावटी और गुना स्टेशन के बीच ग्वालियर-बीना पैसेंजर मंगलवार को बर्निग ट्रेन बनने से बाल-बाल बच गई। ट्रेन के डीजल इंजन में आग लग गई थी। ड्राइवर ने तेजी दिखाते हुए ट्रेन रोक दी और यात्रियों की मदद से इंजन को धकेलकर बोगियों से दूर कर दिया। इससे बड़ा हादसा टल गया। 

ट्रेन नंबर 51884 ग्वालियर-बीना पैसेंजर मंगलवार को सुबह साढ़े आठ बजे ग्वालियर से रवाना हुई थी। दोपहर साढ़े 12 बजे के करीब सिलावटी और गुना स्टेशन के बीच ट्रेन के इंजन में आग की लपटें उठने लगीं। ड्राइवर मुकेश कुमार ने ट्रेन रोक कर उसमें उपलब्ध अग्निशमन यंत्र से आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन सफल नहीं हुए। दहशत में यात्री भी बोगियों से उतरकर आसपास के खेतों में खड़े हो गए थे।

आग बढ़ती देखकर फायर ब्रिगेड को सूचना दी। ट्रेन के स्टाफ ने इंजन और पहली बोगी के बीच की कपलिंग खोल दी। इसके बाद यात्रियों की मदद से जलते इंजन को धक्का देकर बोगियों से दूर हटाया। तब तक सूचना मिलने पर गुना से फायर ब्रिगेड पहुंच गई। उसने ट्रेन की आग बुझाई। इसके अलावा आरपीएफ, जीआरपी और स्थानीय पुलिस के करीब 50 जवान और अधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। यात्रियों के लिए पानी के पाउच सहित अन्य जरूरी सुविधाएं भी ले गए थे। बाद में दूसरा इंजन पहुंचाकर ट्रेन को गुना लाया गया। फिर यहां से ट्रेन बीना के लिए रवाना हुई। विभाग अब आग लगने के कारणों की जांच कर रहा है।

आग लगने के कारणों की होगी जांच
ट्रेन में आग लगने की सूचना पर स्थानीय पुलिस बल भी मौके पर पहुंचा। सुखद बात यह रही कि सभी यात्री सुरक्षित हैं। आग लगने के कारणों की जांच रेलवे के अधिकारी करेंगे।
- राहुल कुमार, पुलिस अधीक्षक, गुना

Posted By: Krishna Bihari Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस