नई दिल्ली, जागरण ब्यूरो। केंद्रीय विश्वविद्यालय त्रिपुरा के कुलपति प्रोफेसर अंजन कुमार घोष के सेवा विस्तार पर आखिरकार मंत्रालय ने भी अपनी मुहर लगा दी। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने बुधवार को इसके आदेश भी जारी कर दिए। विश्वविद्यालय के कुलपति उस समय विवादों में आ गए थे, जब पिछले दिनों उनका कार्यकाल खत्म होने के बाद विवि प्रशासन ने बगैर मंत्रालय की मंजूरी के ही अपनी ओर से उन्हें सेवा विस्तार दे दिया था। इसके बाद तो विवि में विवाद खड़ा हो गया था।

मंत्रालय ने शिकायत मिलने के बाद मामले को गंभीरता से लिया। काफी मंथन के बाद मंत्रालय ने विवि की ओर से कुलपति के सेवा विस्तार के जारी आदेश को खारिज कर नए कुलपति की नियुक्ति तक मौजूदा कुलपति प्रोफेसर अंजन कुमार घोष को पद पर बने रहने का आदेश जारी किया है। गौरतलब है कि केंद्रीय विवि त्रिपुरा के नए कुलपति के नियुक्ति की प्रक्रिया अभी मंत्रालय स्तर पर ही प्रस्तावित है। माना जा रहा है कि इनमें अभी एक महीने से ज्यादा का समय लगेगा। मौजूदा नियमों के तहत केंद्रीय विवि के कुलपति को सेवा विस्तार मंत्रालय के प्रस्ताव और विजिटर की मंजूरी के बाद ही दिया जाता है।

By Manish Negi