मुंबई, प्रेट्र। फिल्म निर्माता-निर्देशक राजकुमार हिरानी पर 2017 की फिल्म 'संजू' में उनके साथ काम करने वाली महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। फिल्म निर्माता ने आरोपों को करते हुए इसे उनकी प्रतिष्ठा धूमिल करने की मकसद वाला झूठा और दुर्भावनापूर्ण करार दिया है। हिरानी ने 'मुन्ना भाई सीरीज', 'थ्री इडियट' और 'पीके' जैसी लोकप्रिय फिल्में बनाई हैं।

एक से अधिक बार यौन उत्पीड़न का आरोप 
 हफपोस्ट इंडिया में प्रकाशित एक लेख में महिला ने खुद को एक सहायिका बताया है। महिला ने आरोप लगाया है कि 2018 में मार्च से सितंबर के बीच वह एक से अधिक बार यौन उत्पीड़न का शिकार हुई। महिला ने 'संजू' के को-प्रोड्यूसर विधु विनोद चोपड़ा को भी तीन नवंबर 2018 को मेल से इसकी जानकारी दी थी। चोपड़ा हिरानी के पुराने सहयोगी रहे हैं।

प्रतिष्ठा तबाह करना है लक्ष्य 
लेख वायरल होने के बाद के बाद राजकुमार ने अपना बयान जारी किया है। उन्होंने कहा है कि दो महीने पहले जब यह दावा उनके ध्यान में लाया गया तब वह सन्न रह गए थे। उन्होंने कहा कि मामले को समिति या कानूनी निकाय में भेजे जाने का सुझाव दिया था, लेकिन शिकायत करने वाली महिला ने इसकी जगह मीडिया में जाने का फैसला लिया। उन्होंने कहा है कि वह मजबूती से कहना चाहेंगे कि झूठी, दुर्भावनापूर्ण और शरारतपूर्ण कहानी फैलाई गई है। इसका एकमात्र लक्ष्य उनकी प्रतिष्ठा तबाह करना है।

हिरानी को अपना फादर फिगर कहा
महिला ने कहा है कि सबसे पहले नौ अप्रैल 2018 को उसपर भद्दी टिप्पणी की। इसके बाद अपने घर व दफ्तर में यौन उत्पीड़न किया। चोपड़ा को भेजे गए ईमेल में महिला ने लिखा है, 'मैं इसे शब्दों में बयान करना चाहती थी। सर उनके कद के कारण ऐसा करना गलत होता।

आपके पास सभी अधिकार हैं और मैं एक महज सहायिका जो कुछ भी नहीं है। मैं कभी आपके सामने कुछ नहीं कह पाऊंगी।' महिला ने हिरानी को अपना फादर फिगर कहा है। ईमेल में कहा है, 'मेरा दिमाग, शरीर और हृदय उस रात और अगले छह महीने पूरी तरह विद्रोह कर उठा था।'

महिला ने चोपड़ा की पत्नी और फिल्म की आलोचक अनुपमा चोपड़ा, फिल्म के स्क्रिप्‍ट राइटर अभिजात जोशी, फिल्म निर्माता और चोपड़ा की बहन शेली चोपड़ा को भी मेल में मार्क किया है। अनुपमा विनोद चोपड़ा फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड की निदेशक भी हैं।

विनोद चोपड़ा फिल्म्स ने समिति गठित की
अनुपमा चोपड़ा ने महिला की शिकायत मिलने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि विनोद चोपड़ा फिल्म (वीसीएफ) ने यौन उत्पीड़न की शिकायत का हल निकालने के लिए एक समिति गठित कर दी है। उन्होंने कहा कि महिला को कानूनी स्तर पर या निष्पक्ष पार्टी से मदद मांगने के लिए कहा है। क्योंकि इस स्तर पर न तो मध्यस्थता की जा सकती है और न ही सही गलत का फैसला ही किया जा सकता है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh