श्रीनगर (जेएनएन)। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला ने राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की अलगाववादियों के ठिकानों पर छापेमारी अजीब बयान दिया है। उन्होंने कहा कि मैं उस वक्त एनआईए रेड को सही मानूंगा, जब उनकी जांच में कुछ निकलेगा।

 

अगर यह सिर्फ अलगाववादियों को डराने के लिए हैं, जिससे वो झुक जाएं तो मैं भारत सरकार से कहना चाहता हूं कि वो कितना भी जुल्म कर लें। लेकिन कोई भी यहां अपना इमान बेचने के लिए तैयार नहीं है।

 

बता दें कि एनआईए की ओर से कल आतंकी फंडिंग को लेकर कार्रवाई करते हुए कश्मीर घाटी, जम्मू और गुरुग्राम के कुल 11 स्थानों पर छापेमारी की गयी। एनआईए ने कट्टरपंथी सैयद अली शाह गिलानी के करीबी व शिया नेता आगा सईद हसन बड़गामी, हुर्रियत महासचिव गुलाम नबी सुमजी, अलगाववादी शब्बीर शाह के चालक जमीर अहमद व चार्टर्ड अकाउंटेंट की कंपनी और जेकेएलएफ के चेयरमैन यासीन मलिक के करीबी शौकत बख्शी के यहां छापेमारी की, जबकि जम्मू में शब्बीर शाह  के करीबी रज्जाक शेक उर्फ शोका गुज्जर के बन तालाब क्षेत्र में दबिश डाली।

 

यह भी पढ़ें: अनुच्छेद 35ए पर अपना पक्ष स्पष्ट करे केंद्र : सिन्हा

यह भी पढ़ें: केंद्र ने हुर्रियत नेताओं की फंडिंग की है या नहीं: फारूक

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस