नई दिल्ली, जेएनएन। पनडुब्बी से पहली बार क्रूज मिसाइल दागने का पाकिस्तान का दावा झूठा निकला है। विशेषज्ञों ने परमाणु संपन्न बाबर-3 क्रूज मिसाइल के परीक्षण वीडियो को फर्जी करार दिया है। सुबूतों को सामने रखकर बताया है कि पाकिस्तान ने कंप्यूटर ग्राफिक्स की मदद से वीडियो तैयार किया है। जानकारों के अनुसार अपने दम पर इस तरह के मिसाइल का परीक्षण करने की क्षमता भी फिलहाल पाकिस्तान के पास नहीं है।

विशेषज्ञों ने बताया

-पठानकोट के एक विशेषज्ञ ने उपग्रह से प्राप्त चित्रों का विश्लेषण कर कई ट्वीट किए हैं। इनमें उन्होंने बताया है कि कैसे पाकिस्तान ने स्वदेशी बैकग्राउंड पर कंप्यूटर द्वारा बनाई गई मिसाइल की तस्वीर का इस्तेमाल कर बाबर-3 के सफल परीक्षण का दावा किया है।

-रक्षा विशेषज्ञ मारूफ रजा ने एक टीवी चैनल को बताया कि वीडियो में मिसाइल का रंग बदलना और उसकी बहुत ज्यादा गति संदेह की सबसे बड़ी वजह है। उनका मानना है कि कंप्यूटर ग्राफिक्स की मदद से वीडियो तैयार किया गया है।

-रिटायर्ड कर्नल विनायक भट्ट ने भी एक टीवी चैनल से बातचीत में इस वीडियो को कंप्यूटर जनित करार दिया है।

-भारतीय नौसेना के सूत्रों के अनुसार पाकिस्तान ने सोमवार को कोई मिसाइल परीक्षण नहीं किया। सूत्रों ने यह भी बताया कि ऐसा लगता है जैसे वीडियो को पुराने फुटेज की मदद से तैयार किया गया है।

वीडियो में क्या?

पाकिस्तानी सेना की ओर से जारी परीक्षण वीडियो में दिखाई देता है कि मिसाइल पनडुब्बी से लॉंच किए जाने के बाद पानी से निकलती है और लक्ष्य को भेदती है। अजीब बात यह है कि वीडियो में दो मिसाइल दिखाई देती हैं। पानी से जो मिसाइल निकलती है उसका रंग भूरा है, जबकि दूसरे का नारंगी।

पाकिस्तान ने कहा था

पाकिस्तानी सेना ने सोमवार को हिंद महासागर में अज्ञात जगह से बाबर-3 के सफल परीक्षण का दावा किया था। इसकी मारक क्षमता 450 किलोमीटर बताई थी। बीते दिसंबर में पाकिस्तान ने जमीन से दागी जाने वाली क्रूज मिसाइल बाबर-2 का सफल परीक्षण किया गया था। पानी के अंदर ही नियंत्रित प्रणोदन, उन्नत मार्गदर्शन, नौवहन विशेषता समेत कई अत्याधुनिक प्रोद्यौगिकी से लैस बाबर-3 को इसका समुद्री संस्करण बताया गया था। दुश्मन के रडार और वायु रक्षा प्रणाली से बच निकलने की क्षमता भी इस मिसाइल में होने की बात कही गई थी।

पाकिस्तान ने किया पनडुब्बी से क्रूज मिसाइल बाबर-3 का सफल परीक्षण

Posted By: Manish Negi