जैसलमेर, जेएनएन। भारतीय सेना और मिस्र की सेना के विशेष बलों के बीच "एक्सरसाइज साइक्लोन- I" नाम का पहला संयुक्त अभ्यास राजस्थान में चल रहा है। 14 जनवरी को शुरू हुए अभ्यास का उद्देश्य दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग को मजबूत करना और आतंकवाद, टोही, छापे और अन्य विशेष अभियानों को अंजाम देने के दौरान रेगिस्तानी इलाकों में पेशेवर कौशल और विशेष बलों की अंतर-क्षमता को साझा करने पर ध्यान केंद्रित करना है।

दोनों देशों की सेनाएं निखार रही अपना हुनर

दोनों देशों के विशेष बलों को एक साझा मंच पर लाने का यह अपनी तरह का पहला अभ्यास है। "14-दिवसीय अभ्यास जो राजस्थान के रेगिस्तान में किया जा रहा है, दोनों टुकड़ियों को विशेष बलों के कौशल जैसे कि स्निपिंग, कॉम्बैट फ्री फॉल, टोही, निगरानी और लक्ष्य पदनाम, हथियारों, उपकरणों, नवाचारों पर जानकारी साझा करने के लिए है।

दोनों देशों के बीच सैन्य सहयोग को बढ़ावा देने के लिए अभ्यास

जैसलमेर में चल रहे संयुक्त अभ्यास के दौरान Indian Army और Egypt Army के विशेष बलों के जवानों ने विशेष हेलीबोर्न ऑपरेशंस का अभ्यास किया। जिसे देख कर आप भी दंग रह जाएगें।

बता दें संयुक्त अभ्यास दोनों सेनाओं की संस्कृति और लोकाचार में एक सामजस्य प्रदान करेगा जिससे भारत और मिस्र के बीच राजनयिक संबंधों को और मजबूत करने के लिए सैन्य सहयोग और पारस्परिकता को बढ़ावा मिलेगा।

मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फत्ताह अल-सिसी 24 जनवरी को भारत आने वाले हैं। वह गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होने वाले पहले मिस्र के राष्ट्रपति और मध्य-पूर्व के पांचवें नेता होंगे।

इस बीच Indian Army के जवानों ने Vizag में Joint Amphibious Exercise AMPHEX 2023 में भाग लिया।

साथ ही Indian Navy और Indian Air force ने परिचालन संकल्प, मुकाबला और त्रि-सेवा तालमेल के उच्च मानकों को प्रदर्शित किया।

यह भी पढ़ें- भारत में दुनिया के 20% कैंसर मरीज, डॉक्टरों की चेतावनी, आदत और लाइफस्टाइल नहीं सुधारी तो और बिगड़ेगी स्थिति

यह भी पढ़ें- Fact Check: विमान हादसे के बनावटी वीडियो को असली समझकर शेयर कर रहे लोग

Edited By: Shashank Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट