कोरबा, जेएनएन। छत्तीसगढ़ में तब्लीगी जमात के कारण हॉट स्पॉट बने कोरबा जिले के कटघोरा की एक कोरोना संक्रमित मां के साथ उसकी दो मासूम बेटियां भी एम्स रायपुर में हैं। भूख से बच्चियां जब रोने लगती हैं तो एम्स की नर्सो की ममता उमड़ पड़ती हैं। नर्से मां की भूमिका में आ जाती हैं। बोतल से दूध पिलाती हैं। लोरी गाकर बच्चों को चुप कराती हैं। बच्चों को नींद आने तक नर्सो की गोद ही उनका पालना होती है।

बता दें कि हॉट स्पॉट कटघोरा की मस्जिद में महाराष्ट्र के कामठी से आए 16 जमातियों में से एक संक्रमित पाया गया था। संक्रमण की जानकारी सामने आने से पहले जमातियों ने कटघोरा की मस्जिद में लोगों को नमाज अदा कराई। जलसा और दावतों में शामिल हुए। नतीजतन कटघोरा में संक्रमितों की संख्या 24 हो गई है।

इन्हीं संक्रमितों में एक ही परिवार के पांच सदस्य भी हैं। जिसमें एक महिला का प्रसव हाल ही में हुआ था। उसकी डेढ़ माह की एक बच्ची है। साथ ही 22 माह का एक और बच्चा भी है। जिनकी देखरेख का जिम्मा उनकी नानी का था। नानी भी संक्रमित हो गई। घर में अब कोई ऐसा नहीं बचा जो बच्चों की देखभाल कर सके। लिहाजा बच्चों को भी एम्स में ही रखा गया है। अब इन बच्चों की जिम्मेदारी नर्से संभाल रही हैं। संक्रमित महिला के उपचार के दौरान बच्चों को उनसे दूर करना पड़ा है।

ट्वीट किए बगैर नहीं रह सके स्वास्थ्य मंत्री

एम्स रायपुर में इलाज के दौरान संक्रमित मां से दूर हुए दो बच्चों खासकर डेढ़ माह की नवजात की देखभाल करती नर्सो की वीडियो वायरल हुई। एम्स से आई यह वीडियो देखकर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव भी खुद को रोक नहीं सके और उन्होंने यह वीडियो अपने ट्वीटर हैंडल पर पोस्ट भी किया। इस वीडियो में दो नर्स डेढ़ माह की बच्ची को गोद में लेकर बॉटल से दूध पिलाती व पुचकारती दिखाई दे रहीं हैं। बीच-बीच में बच्ची रोने को होती है, तो नर्सेस उसे बड़े प्यार से बेटू कहकर चुप करातीं नजर आ रहीं हैं।

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस