बेंगलूर। बेंगलूर से मैंगलोर जाने वाली जेट एयर विमान के केबिन के भीतर धुआं दिखने के बाद वापस को बेंगलूर एयरपोर्ट बुला लिया गया। सभी यात्रियों और क्रू मेंबर्स को सुरक्षित निकाल लिया गया।

उड़ने के मात्र 15 मिनट बाद ही केबिन में धुआं देखते ही विमान की इमरजेंसी लैंडिंग हुई। लैंडिंग के तुरंत बाद एयरक्राफ्ट बचाव कर्मी व फायर फाइटिंग टीम ने मिलकर तुरंत विमान को खाली कराया और इसमें सवार 65 यात्रियों और चार क्रू मेंबर्स को सुरक्षित निकाल लिया गया।

यात्रियों को दूसरे विमान से मैंगलोर भेजा जाएगा।

हवाई यात्रियों पर मेहरबान हुई सरकार, मिलेगा ज्यादा मुआवजा

आंधी में फंसा एयर इंडिया का विमान, बाल-बाल बचे 186 यात्री


यात्रियों को दूसरे विमान से मैंगलोर भेजा जाएगा।

कनारा लाइटिंग्स, मंगलूरू के मैनेजिंग डायरेक्टर, अजीत खरे अपनी पत्नी के साथ इसी विमान में सवार थे।

खरे ने द हिंदू को बताया कि उन 10 मिनटों में यात्रियों के बीच कितना भय और बेचैनी का माहौल हो गया था। उड़ान भरने के 10 मिनटों के बाद केबिन में धुआं भर गया था। क्रू मेंबर्स ने हमें चेहरा ढकने के लिए नैपकिन दिया जिससे हम सांस ले सकें। लेकिन धुआं बढ़ता जा रहा था मैं प्लेन के इंजन के पास ही बैठा था इसलिए मुझे तुरंत इंजन में लगे आग का आभास हो गया था। मैंने एयरहोस्टेस को अलर्ट कर दिया था और उसने पायलट को। पायलट ने तुरंत उस इंजन को स्विच ऑफ कर दिया और सिंगल इंजन के साथ इमरजेंसी लैंडिंग का निर्णय लिया। शुक्र है हम सुरक्षित लैंड कर गए।‘

उन्होंने बताया कि लैंडिंग के तुरंत बाद राहत कर्मी विमान में पहुंचे और हमें सुरक्षित निकाला। ‘हमें टर्मिनल की ओर भागने को कहा गया। फायर फाइटिंग टीम विमान की ओर आए और इंजन में लगे आग को बुझाया।‘

खरे ने बताया, ‘विमान में 15 महिलाएं और एक बच्चा सवार था। हम सब डरे हुए थे।‘ जेट एयरवेज ने बताया कि पांच यात्रियों को एयरपोर्ट मेडिकल रूम में फर्स्ट एड के लिए ले जाया गया।

Posted By: Monika minal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस