रोहित जंडियाल, जम्मू। अनुच्छेद 370 हटने के बाद दिनों दिन कश्मीर में स्थितियां सामान्य हो रही हैं। ईद के दिन माहौल काफी हद तक सामान्य नजर आ रहा है। इस मौके पर यहां सुरक्षा के मद्देनजर कड़े इंतजाम किए गए हैं। लोगों को कोई दिक्कत न हो इसके लिए प्रशासन ने खास इंतजाम किए हैं। 

ईद के मौके पर श्रीनगर में भी खुशी और जश्न का माहौल देखने को मिल रहा है। लोगों ने स्थानीय मस्जिदों में बकरीद की नमाज अदा की। पिछले कुछ दिनों से एनएसए अजीत डोभाल जम्मू कश्मीर में मौजूद है। उन्होंने आज बकरीद के मौके पर सौरा, पंपोर, लाल चौक, हजरतबल सहित पूरे श्रीनगर की रेकी की। उन्होंने  पंपोर, बडगाम, पुलवामा, अवंतीपोरा की भी रेकी की। सभी क्षेत्रों में ईद का जश्न शांतिपूर्वक चल रहा था।

 
गृह मंत्रालय की प्रवक्ता वसुधा गुप्ता ने ट्वीट कर बताया कि जम्मू कश्मीर में ईद पर लोगों ने काफी अच्छी संख्या में नमाज अदा की है। लोगों ने श्रीनगर और शोपियां की प्रमुख मस्जिदों में नमाज अदा की। जम्मू के ईदगाह में 4500 से अधिक लोगों ने नमाज अदा की। अनंतनाग, बारामुला, बडगाम, बांदीपोर की सभी स्थानीय मस्जिदों में ईद की नमाज शांतिपूर्ण ढंग से अदा की गई। जामिया मस्जिद पुराने शहर बारामूला में लगभग 10,000 लोगों ने नमाज अदा की।

जरूरी सामान पहुंचाने के लिए मोबाइल वैन
ईद पर कोई दिक्कत न हो, इसलिए प्रशासन ने घरों तक जरूरी सामान पहुंचाने के लिए मोबाइल वैन लगाई हैं। कर्मचारियों को एडवांस में ही वेतन का भुगतान कर दिया गया है। प्रशासन ने श्रीनगर शहर में छह मंडियां स्थापित की हैं। इनमें ढाई लाख बकरे कुर्बानी के लिए लाए गए हैं। हर जिले में राशन डिपो बनाए गए हैं। कश्मीर संभाग में कुल 3697 सरकारी डिपो में से 3557 खुले हैं। इससे पहले रविवार को छुट्टी के बावजूद ट्रेजरी और बैंक, बाजार, खरीदारी करते लोगों ने शांति का संदेश दिया। इस दौरान ईद कश्मीरी एक-दूसरे को ईद मुबारक कहते नजर आए। 

सभी जरूरी सामान उपलब्ध 
राज्य प्रशासन के अनुसार, कश्मीर में सभी जरूरी सामान उपलब्ध है। गेंहू 65 , चावल 55 , मटन 17 , पोल्ट्री 30, केरोसिन 35 , एलपीजी 30 और डीजल व पेट्रोल 28 दिनों के लिए उपलब्ध है।

अस्पतालों में बेहतर प्रबंध 
कश्मीर के सभी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों में पर्याप्त संख्या में डॉक्टर और पैरामेडिकल स्टाफ मौजूद हैं। स्टाफ को उनके पहचान पत्रों के आधार पर कहीं भी आने-जाने की अनुमति है। प्रशासन का दावा है कि अस्पतालों में सभी दवाइयां पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं।

 300 विशेष टेलीफोन बूथ , लाइजन अधिकारी नियुक्त
प्रशासन ने वादी में जगह-जगह पर 300 विशेष टेलीफोन बूथ स्थापित किए हैं, ताकि स्थानीय लोग अन्य राज्यों में अपने परिजनों से संपर्क कर सकें। देश के अन्य हिस्सों में जहां कश्मीरी ज्यादा संख्या में रह रहे हैं वहां लाइजन अधिकारी नियुक्त किए गए हैं, खासकर अलीगढ़ और दिल्ली।

लाइजन अधिकारी कश्मीरी छात्रों व अन्य के लिए ईद की दावत की भी व्यवस्था करेंगे। श्रीनगर एयरपोर्ट से सभी फ्लाइट समय से उड़ रही हैं। एयर टिकट को मूवमेंट पास के तौर पर माना जा रहा है।

बिजली, पानी की व्यवस्था 
बिजली और पानी के पुख्ता प्रबंध हैं। किसी भी मरम्मत कार्य के लिए स्टाफ है। अतिरिक्त ट्रांसफार्मर रखे गए हैं। नगर निगम व कमेटियां सफाई व्यवस्था का जिम्मा संभाले हैं।

हाजियों की वापसी के प्रबंध
18 अगस्त से सउदी अरब से हाजी श्रीनगर पहुंचना शुरू हो जाएंगे। हाजियों की सुविधा के लिए एयरपोर्ट और हज हाउसों में विशेष हेल्पलाइन भी स्थापित की गई है।

Image result for jammu and kashmir before eid

सुरक्षा के कड़े इंतजाम
सभी धार्मिक स्थलों के बाहर अतिरिक्त सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए हैं। ईद पर मुख्य कार्यक्रम ईदगाह मैदान श्रीनगर में होता हैं। इसके अलावा हजरत बल, सौरा स्थित जियारत और सोनावार गुपकार रोड में नमाज के लिए भीड़ उमड़ती है। राज्य के मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम, पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह स्वयं सुरक्षा प्रबंधों की समीक्षा कर रहे हैं।

आईबी ने जारी किया अलर्ट
इन व्यवस्थाओं के बीच इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने सोमवार को ईद के मौके पर इस्लामिक स्टेट तथा आईएसआई समर्थित आतंकी गुटों के आशंकित हमलों को लेकर अलर्ट जारी किया है।

डोभाल ने संभाल रखी है कमान
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल कश्मीर में डटे हुए हैं। उन्होंने ग्राउंड मैनेजमेंट संभाली हुई है। डोभाल लोगों को यकीन दिला रहे हैं कि जो हो रहा है वह आपकी भलाई के लिए ही है।

Image result for jammu and kashmir before eid

अफवाहों पर न दें ध्यान 
पुलिस महानिदेशक दलबाग सिंह ने कहा कि घाटी में हालात सामान्य हैं। कुछ चुनिंदा जगहों पर कर्फ्यू में ढील दी गई है। उन्होंने लोगों से अफवाहों पर विश्वास न करने को कहा। उन्होंने कहा कि कहीं भी फायरिंग की कोई घटना नहीं हुई है।

सीआरपीएफ की 'मददगार' ने कश्मीर में बदला नंबर
सीआरपीएफ की हेल्पलाइन 'मददगार' ने अपना नंबर बदल दिया है। कश्मीर में टेलीफोन सेवा ठप होने के कारण नंबर बदला गया है। अब कश्मीर में मदद के लिए 9469793260 नंबर पर संपर्क किया जा सकता है। पहले यह नंबर 14111 था। सीआरपीएफ ने जून 2017 में मददगार हेल्पलाइन बनाई थी। यह चौबीस घंटे काम करती है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप