नई दिल्ली, नीलू रंजन। पीएनबी घोटाले के खुलासे के एक दिन के भीतर ही प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) 11,400 करोड़ रुपये के घोटाले की आधी रकम जब्त करने में सफल रहा है। देर शाम तक आरोपियों की 5100 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की जा चुकी थी। ईडी की कोशिश आरोपियों की अधिक-से-अधिक संपत्ति जब्त कर घोटाले की रकम बरामद करने की है। इसके साथ ही ईडी ने जनवरी में विदेश चले गए आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का पासपोर्ट निरस्त करने के लिए विदेश मंत्रालय से कहा है।

ईडी के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार घोटाले की अधिक-से-अधिक रकम बरामद करने के लिए आरोपियों के मुंबई, सूरत, जयपुर, दिल्ली और हैदराबाद स्थित 17 ठिकानों पर छापा मारा गया। छापे के दौरान कुल 5100 करोड़ रुपये मूल्य की ज्वेलरी, सोना और हीरे जब्त किये गए। 5100 करोड़ रुपये इनकी बुक वैल्यू है। यानी इनकी बाजार की कीमत इससे कहीं ज्यादा होगी। इनमें से अकेले हैदराबाद में 3800 करोड़ रुपये की ज्वेलरी, सोना और हीरे जब्त किये गए। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जयपुर में भी बड़ी मात्रा में ज्वेलरी, सोना और हीरे मिले हैं, जिनकी कीमत आंकी जा रही है। यानी जब्ती की रकम और बढ़ सकती है।

हीरे, ज्वेलरी और सोना जब्त करने के साथ ही ईडी ने आरोपियों के मुंबई स्थित छह ठिकानों को सील कर दिया है। वहीं नीरव मोदी के दफ्तर से मिले 3.9 करोड़ रुपये की फिक्स डिपोजिट को भी ईडी ने कब्जे में ले लिया है। ईडी के वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार जैसे-जैसे आरोपियों के नए ठिकानों का पता चल रहा है, छापे की कार्रवाई आगे बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि अगले एक-दो दिनों तक यह जारी रह सकता है। इसके साथ ही ईडी आरोपियों की अचल संपत्ति का भी पता लगा रही है। जिन्हें बाद में जब्त किया जाएगा। ईडी अधिकारी ने आश्वस्त किया कि इस बार घोटाले की अधिकांश रकम आरोपियों से बसूल कर लिया जाएगा।

आरोपियों के पासपोर्ट होंगे निरस्त

ईडी को चिंता सता रही है कि विदेश रह रहा नीरव मोदी, उसकी पत्नी अमी मोदी और मेहुल चोकसी घोटाले के खुलासे के बाद कहीं वापस नहीं लौटे और विजय माल्या व ललित मोदी की तरह विदेश में ही न रह जाए। इस आशंका को देखते हुए ईडी ने विदेश मंत्रालय को इन तीनों का पासपोर्ट रद्द करने के लिए कह दिया है। वैसे ईडी को अभी तक यह साफ नहीं है कि अमेरिका की रहने वाली अमी मोदी के पास भारतीय पासपोर्ट है या नहीं। माना यह जा रहा है कि वह अमेरिकी नागरिक हैं।

घोटाला करने वाले अधिकारी ने खरीदा चार करोड़ का मकान

वहीं पीएनबी में नीरव मोदी और उसकी कंपनियों के लिए नियमों की धज्जियां उड़ाकर लेटर आफ अंडरस्टैंडिंग जारी करने वाला सेवानिवृत हो चुका उप प्रबंधक गोकुलनाथ शेट्टी भी फरार है। ईडी और सीबीआइ उनकी तलाश कर रही है। ईडी को जानकारी मिली है कि गोकुलनाथ शेट्टी ने पिछले साल 31 मई को सेवानिवृत होने के बाद मुंबई में 3.9 करोड़ रुपये का घर खरीदा था। ईडी इसकी पुष्टि कर रही है। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पुष्टि होने के बाद शेट्टी के इस घर को भी जब्त कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जल्द ही सभी आरोपियों को सम्मन भेजकर पूछताछ के लिए हाजिर होने के लिए कहा जाएगा। यदि कोई आरोपी पूछताछ के लिए नहीं आता है, तो उसके खिलाफ अदालत से वारंट जारी भी किया जा सकता है।

छुट्टी के दिन भी खुला ईडी का दफ्तर

दरअसल मंगलवार को पीएनबी में 11400 करोड़ रुपये के घोटाले की खबर मिलते ही सरकार सक्रिय हो गई। ईडी को मनी लांड्रिंग के तहत तत्काल कार्रवाई शुरू कर आरोपियों के पास से घोटाले की रकम जब्त करने को कहा गया। बुधवार को राजपत्रित अवकाश होने के बावजूद ईडी अधिकारी दफ्तर पहुंचे। पीएनबी के प्रबंध निदेशक सुनील मेहता खुद ईडी जाकर घोटाले की मनी लांड्रिंग रोकथाम कानून के तहत जांच करने का अनुरोध किया। शाम तक ईडी केस दर्ज कर चुका था और गुरूवार की सुबह से ही आरोपियों के ठिकानों पर छापा मारने की कार्रवाई शुरू हो गई।

Posted By: Manish Negi