नई दिल्ली (प्रेट्र)। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के दामाद राबर्ट वाड्रा की कंपनी को नोटिस भेजा है। बीकानेर भूमि घोटाले में मनी लांड्रिंग के सिलसिले में वाड्रा की कंपनी स्काईलाइट हास्पिटैलिटी को यह नोटिस जारी किया गया है।

ये भी पढ़ेंः 'वाड्रा की बेनामी संपत्ति होने के मामले में कानून अपनी कार्रवाई करेगा'

आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि वाड्रा की इस कंपनी से मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत जानकारियां मांगी गई हैं। कंपनी से वित्तीय स्टेटमेंट और अन्य दस्तावेजों को जांच अधिकारी को सौंपने को कहा गया है।

उल्लेखनीय है कि प्रवर्तन निदेशालय ने इस सिलसिले में राजस्थान और अन्य जगहों पर पिछले माह सघन छापेमारी की थी। साथ ही कई दस्तावेज जब्त किए जाने का दावा किया था। यह जांच राजस्थान के सीमावर्ती जिले बीकानेर के कोलायत क्षेत्र की 275 बीघा जमीन की खरीद को लेकर है।

ये भी पढ़ेंः षडयंत्र के तहत उछाला जा रहा है वाड्रा का नाम, जांच करें एजेंसियां: सोनिया

केंद्रीय जांच एजेंसी ने पिछले साल ही इस मामले में एक आपराधिक मामला दर्ज किया था। इसका आधार स्थानीय तहसीलदार की शिकायत पर राज्य पुलिस की ओर से दर्ज एफआइआर है। प्रवर्तन निदेशालय ने अपनी एफआइआर में वाड्रा का नाम या और किसी कंपनी को उनसे नहीं जोड़ा है। इस एफआइआर में राज्य सरकार के कुछ अधिकारियों और कुछ भू-माफिया के नाम दिए गए हैं।

ये भी पढ़ेंः सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा, वाड्रा के खिलाफ जांच में तेजी लाए ईडी

यह केस दर्ज करते हुए उस रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया है जिसमें आरोपी कंपनी का नाम वाड्रा से जोड़ा गया था। बताया जाता है कि वाड्रा ने बीकानेर स्थित जमीनों को औने-पौने दामों में खरीद लिया था। इधर, वाड्रा ने कुछ भी गलत करने की बात से इन्कार किया है। वहीं, कांग्रेस पार्टी ने इस कदम को राजनीति से प्रेरित बताया है। ईडी ने इसी तरह से पिछले साल दिल्ली में भी छापे मारे थे।

ये भी पढ़ेंः देश की सभी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: anand raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप