हैदराबाद, एएनआइ। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने बुधवार को मनी लॉन्ड्रिंग रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत जीएससी राजू (GSC Raju) व उनके सहयोगी एवी प्रसाद  (AV Prasad) को गिरफ्तार कर लिया। राजू लियो मेरिडियन इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स एंड होटल्स लिमिटेड (Leo Meridian Infrastructure Projects & Hotels Ltd.) के प्रमोटर हैं और एवी प्रसाद उनके सहयोगी। यह गिरफ्तारी बैंक लोन (Bank Loan)  व फंड के हेर फेर मामले में की गई है। मामले में कुल 1768 करोड़ की रकम का हेरफेर किया गया।

मामले में अब तक की जांच में 33 शेल कंपनियों व 40 कंट्रैक्टर के नाम सामने आए हैं। इस मामले में सीबीआई की ओर से 3 प्राथमिकी दर्ज कराई गई जिसपर ED ने संज्ञान लिया। ED के अनुसार, अपने रिसॉर्ट प्रोजेक्ट के लिए बैंक लोन के खातिर उन्होंने पहले से बिकी जमीनों को गिरवी रख दिया।

ED ने बताया कि केंद्रीय वित्‍तीय जांच एजेंसी ने सीबीआई के रिपोर्ट के आधार पर तीन मामले दर्ज कराए इसके बाद ही गिरफ्तारी की गई। ED ने बताया कि राजू को PMLA, 2002 के तहत गिरफ्तार किया गया। अधिकारी के अनुसार, गिरफ्तार अपराधियों को पहले कोर्ट में पेश किया गया वहां से इन्‍हें सात दिनों के लिए ED की हिरासत में भेजा गया है।

पिछले वर्ष 30 दिसंबर को ED ने PMLA के प्रावधानों के तहत राजू, उनके परिवार, उनकी 'बेनामी' और LMIPHL के निदेशकों की 250.39 करोड़ रुपये की संपत्ति अटैच की थी। मामले की जांच में यह खुलासा हुआ कि राजू व उसकी कंपनी के निदेशकों ने मिलकर सुनियोजित तरीके से साजिश की थी। अधिकारियों का कहना है कि बैंकों से लोन लेने के लिए धोखाधड़ी का बड़ा जाल फैलाया गया था। 

यह भी पढ़ें: चंदा कोचर और उनके परिवार पर ED की बड़ी कार्रवाई, 78 करोड़ की संपत्ति जब्त

यह भी पढ़ें: ED ने फर्जी नोटिस को लेकर लोगों को किया सतर्क, यहां कर सकते हैं शिकायत

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस