नई दिल्ली, पीटीआइ। तेलंगाना में निवेश के नाम पर ज्यादा रिटर्न देने वाली एक कथित निवेश धोखाधड़ी योजना का पता चला है, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस मामले में दो महिलाओं सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। बुधवार को एजेंसी ने इसकी जानकारी दी।

एजेंसी के मुताबिक, नौहेरा शेख, मौली थॉमस और बीजू थॉमस को हेरा समूह की कंपनियों से संबंधित मामले में मंगलवार को धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के प्रावधान के तहत गिरफ्तार किया गया। जिसके बाद हैदराबाद की विशेष अदालत ने सभी को 7 दिन की प्रवर्तन निदेशालय के हिरासत में भेज दिया है। तीनों पहले से ही एक पुलिस मामले में जेल में थे और ईडी ने अदालत से उन्हें हिरासत में लेने की अनुमति मांगी है। यह मामला हैदराबाद में हेरा समूह द्वारा धोखाधड़ी की गई मनी सर्कुलेशन स्कीम से संबंधित है, ईडी ने तेलंगाना पुलिस की एफआइआर और कुछ अन्य शिकायतों के आधार पर मनी लॉन्ड्रिंग के तहत आपराधिक मामला दर्ज किया है।

अपने एक स्टेटमेंट में एजेंसी ने कहा कि हेरा समूह पर गोल्ड के व्यापार में शामिल होकर लगभग 36 फीसद रिटर्न देने के वादे कर लाखों निर्दोष पीड़ितों से धोखाधड़ी करने का आरोप है। एजेंसी ने एक बयान में कहा कि यह योजना अस्थिर थी और समूह मूल राशि के अलावा निवेशकों को ज्यादा रिटर्न देने में चूक गई है।

इस बीच आरोपियों का कहना है कि मनी सर्कुलेशन स्कीम को धोखाधड़ी से अंजाम दिया गया और शेख और अन्य लोगों के खिलाफ देश भर में जमाकर्ताओं की ओर से कई एफआईआर दर्ज की गई हैं।

ईडी को मालूम चला है कि आरोपी व्यक्तियों और उनकी समूह की कंपनियों ने निवेश के बहाने पूरे भारत में कुल 1,72,114 निवेशकों से 3,000 करोड़ रुपये से अधिक की वसूली की है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitesh