भिलाई। सार्वजनिक क्षेत्र के एशिया के सबसे बड़े इस्पात संयंत्र भिलाई में गुरुवार की देर रात स्टील मेल्टिंग शॉप में आग लगी। इस आग को काबू किया ही गया था कि शुक्रवार कोक ओवन में आग लग गई। कोल केमिकल प्लांट टीडीपी-1 में आग लगी थी। वहां कैमिकल होने की वजह से आग बेहद तेजी के साथ फैलने लगी। फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर पहुंची, लेकिन आग पर काबू पाना मुश्किल हो रहा था।

रायपुर और आस-पास के नगर निगमों से भी फायर ब्रिगेड अमले को मौके पर रवाना किया गया। जानमाल से जानमाल की कोई हानि नहीं हुई है, लेकिन प्लांट का एक हिस्सा पूरी तरह जल गया है। इसकी वजह से यहां आर्थिक नुकसान हुआ है। आग लगने पर स्टार्टिंग-ए प्लांट का गोदाम पूरी तरह जल गया।

शुक्रवार सुबह करीब 9 बजे भीषण आग लगी। इससे प्लांट के अंदर अफरातफरी मच गई। आग लगने का कारण अब तक स्पष्ट नहीं हो सका है। कोल से कोक बनाने के दौरान बहुत से रासायनिक तत्व निकलते हैं, जिन्हें ईंधन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। इसमे आग बहुत ही तेजी से फैलती है क्योंकि बायप्रोडक्ट में ज्वलनशील पदार्थ होता है। परंतु वहां काम करने वाले कर्मचारियों ने सूझबूझ से काम लिया और सुरक्षित वहां से बाहर निकल गए।

कर्मचारी बता रहे हैं कि बहुत बड़ा क्षेत्र जलकर राख हो गया है। उसे बचाया नहीं जा सका। वहीं, गुरुवार की रात स्टील मेल्टिंग शॉप-3 में लेडल फटने से कई टन हॉट मेटल बाह गया था। इससे आग लगी, जो कंट्रोल केबिन तक पहुंच गई थी। यहां भी लाखों का नुकसान हुआ था। बता दें कि कुछ माह पूर्व भिलाई इस्पात संयंत्र में भीषण हादसा हुआ था जिसमें 12 कर्मचारियों की मौत हो गई थी। यहां अधोसंरचना पुरानी होने की वजह से आए दिन हादसे हो रहे हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप